script25-day-old newborn defeated Corona in 15 days | 25 दिन की नवजात ने 15 दिन में कोरोना को हराया | Patrika News

25 दिन की नवजात ने 15 दिन में कोरोना को हराया

- कोविड-19 एनआइसीयू के चिकित्सकों व नर्सिंग स्टाफ की मेहनत रंग लाई..

- सर्दी-खांसी, सांस में दिक्कत के साथ सिविल में करवाया था भर्ती

सूरत

Published: February 17, 2022 10:22:18 pm

सूरत.

कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए ज्यादा गंभीर बताई जा रही थी, लेकिन ज्यादातर पॉजिटिव बच्चे होम आइसोलेशन में स्वस्थ हो गए। जबकि एक से दो फिसदी बच्चों को ही अस्पताल में भर्ती करने की जरुरत पड़ी। अमरोली क्षेत्र निवासी एक माह की बच्ची को कोरोना होने पर न्यू सिविल अस्पताल में भर्ती किया, जहां चिकित्सकों ने 15 दिन गहन उपचार में उसे स्वस्थ किया है।
25 दिन की नवजात ने 15 दिन में कोरोना को हराया
25 दिन की नवजात ने 15 दिन में कोरोना को हराया
कतारगाम जोन में अमरोली आवास निवासी पायल दिनेश देवीपुजक ने स्थानीय निजी अस्पताल में नवजात बच्ची को जन्म दिया था। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद पायल बच्ची को लेकर घर चली गई, लेकिन 25 दिन बाद वह बीमार हो गई और उसने दूध पीना छोड़ दिया। परिजन उसे अमरोली के एक निजी अस्पताल लेकर गए जहां चिकित्सकों ने उसकी प्राथमिक जांच की, लेकिन तबीयत गंभीर होने के कारण उसे न्यू सिविल रेफर कर दिया। परिजन 30 जनवरी को बच्ची लेकर न्यू सिविल आए जहां चिकित्सकों ने उसे कोविड-19 एनआइसीयू वार्ड में उपचार शुरू किया। पिड्याट्रिक विभाग के न्यूनेटल यूनिट हेड डॉ.पन्ना पटेल, असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. अपूर्व शाह और डॉ. सुजीत चौधरी के देखरेख में इलाज शुरू किया गया। डॉ. अपूर्व ने बताया कि बच्ची का जन्म के समय वजन एक किलो 800 ग्राम था। भर्ती करने के दौरान उसका वजन घटकर 1.640 ग्राम रह गया था। बच्ची को सर्दी-खांसी के साथ सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। एक्स-रे में बच्ची की छाती में न्यूमोनिया बढ़ा हुआ था। उसका ऑक्सीजन लेवल भी घट गया था। 2डी इको में बच्ची को हृदय की बीमारी पीडीए होने का पता चला। चिकित्सकों ने बच्ची को सी-पेप मशीन के सपोर्ट पर भर्ती किया। इसके साथ ही आइवीआइजी इंजेक्शन, एन्टीबायोटिक समेत अन्य दवाई शुरू की गई। धीरे-धीरे बच्ची में सुधार आना शुरू हो गया। पिड्याट्रिक विभाग की अध्यक्षा डॉ. संगीता त्रिवेदी ने ‘राजस्थान पत्रिका’ को बताया कि अब बच्ची कोरोना से स्वस्थ हो गई है और उसे अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। बच्ची का वजन बढक़र 1.750 ग्राम हो गया था। चिकित्सकों ने बताया कि मां पायल को नौ संतान थी। इसमें तीन बच्चे जन्म के एक-एक माह बाद किसी कारण से मौत हो गई। हाल में पांच बच्चे हैं और नवजात बच्ची उनकी छठी संतान है।
0
क्या है इंट्राविनस इम्युनोग्लोबुलिन :
चिकित्सकों ने बताया कि मायस्थेनिया व मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम इन चिल्ड्रेन (एमआइएस-सी) जैसी क्रोनिक बीमारियों के इलाज में आइवीआइजी थेरेपी का पहले इस्तेमाल होता रहा हैं। इंट्राविनस इम्युनोग्लोबुलिन इंजेक्शन दिया जाता है। इंजेक्शन देने की पूरी प्रक्रिया को इंट्राविनस इम्युनोग्लोबुलिन थेरेपी कहते हैं। इसे कोरोना मरीजों के इलाज में कारगर पाया गया है। इसका कोई बड़ा साइड इफैक्ट नहीं मिला है। इससे कोरोना मरीजों में बुखार कम होने के साथ ऑक्सीजन के स्तर में भी तेजी से सुधार देखने को मिलता है। सांस की तकलीफ कम होती है।
0
पिता ने छोड़ दी थी आस :
चिकित्सकों ने बताया कि बच्ची के पिता दिनेश देवीपुजक मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करते है। न्यू सिविल में 3-4 दिन भर्ती रहने के बाद दिनेश ने बच्ची के स्वस्थ होने की आस छोड़ दी थी। उन्होंने डॉक्टर से बच्ची को छुट्टी देने और घर ले जाने के लिए कहा। तब डॉक्टरों ने उन्हें समझाया, बच्ची की हालत गंभीर है। घर ले जाने से कुछ भी हो सकता है। यहां उसका बेहतर इलाज संभव है। इसके बाद दिनेश को हिम्मत आई और उसने इलाज जारी रखने कहा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.