अपमान और नुकसान का रंज रख चुराए 42 लाख के हीरे, पुराने पार्टनर समेत दो गिरफ्तार


- डेढ़ मिनट में लाखों के हीरे व नकदी समेत स्कूटर गायब
- हीरा कारोबारी को मंहगा पड़ा परिचित को पान मसाला खिलाना
- हीरा कारोबारी के पुराने पार्टनर समेत चोरी के आरोप में दो गिरफ्तार

By: Dinesh M Trivedi

Updated: 21 Jul 2021, 10:32 AM IST

सूरत. कापोद्रा इलाके में एक हीरा कारोबारी अपने परिचित को पान मसाला देने के लिए गया और मात्र डेढ़ मिनट में लौटा। इस बीच कोई शातिर उसका स्कूटर चुरा कर ले गया। स्कूटर की डिक्की में हीरों व नकदी समेत लाखों रुपए का सामान था। घटना में किसी जानकार का हाथ होने की आशंका के चलते पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी हैं।

जानकारी के अनुसार पुणागाम कैलाशधाम सोसायटी निवासी परेश पुत्र भूपत दुधात वराछा मीनी बाजार में हीरों का कारोबार करते हैं। कापोद्रा साईंनाथ सोसायटी में उनका हीरे तलाशने का छोटा कारखाना भी हैं। पिछले एक महीने के दौरान तैयार किए गए करीब ३० लाख रुपए की हीरे व हीरा बिक्री के रुपए उन्होंने कपड़े की एक थैली में लपेट कर अपने स्कूटर की डिक्की में रख दिए थे।

शाम को वह स्कूटर लेकर कारगिल चौक स्थित नारायण नगर सोसायटी के कार्यालय पर गए थे। उस दौरान कार्यालय के सामने स्थित प्रवीण झालावाडिय़ा के कारखाने में काम करने वाले परिचित कारीगर ने पान मसाला मांगा। वे स्कूटर पार्क कर मसाला देने के लिए उस तरफ गए और डेढ़ मिनट में लौटे तो स्कूटर गायब मिला।

उन्होंने सीसीटीवी फुटेज देखे तो रेनकोर्ट पहने एक युवक स्कूटर का लॉक तोड़ कर कुछ ही क्षणों में स्कूटर लेकर फरार हो गया। इस पर उन्होंने पुलिस को खबर की। पुलिस मामले की छानबिन में जुटी हैं। पुलिस को आशंका हैं कि युवक उनका पीछा कर रहा था।

पांच माह पूर्व नकली चाबी बना कर रची थी चोरी की साजिश

पुलिस उप निरीक्षक डीके चौसला ने बताया कि सीसीटीवी के आधार पर पुणागाम पुष्पानगर निवासी घनश्याम नाकराणी व योगीचौक तिरुपति सोसायटी निवासी राहुल चोडवडिया को गिरफ्तार किया गया हैं। घनश्याम पूर्व में पीडि़त परेश दूधात के साथ पार्टनशिप में काम करता था। उस दौरान परेश की वजह से उसे काफी नुकसान हुआ था। वह परेश से बदला लेना चाहता था। इसलिए उसने चोरी की साजिश रची। उसे पता था कि परेश हीरे के पार्सल अपने स्कूटर की डिक्की में रखता हैं। पांच माह पूर्व उसने काम के बहाने परेश से स्कूटर मांग कर उसकी नकली चाबी बना ली थी।

टेम्पो पार्क करने के लिए दिए पचास हजार प्रस्ताव दिया

उसके बाद से वह मौके की तलाश में था। जिस दुकान पर घनश्याम अक्सर पान मसाला खाने जाता था वहीं पर राहुल भी आता था। टेम्पो चालक राहुल को घनश्याम जानता था। घनश्याम ने राहुल को उसकी बताई जगह पर पांच मिनट टेम्पो पार्क करने पर पचास हजार रुपए देने का वादा किया था। राहुल की पुत्री बीमार होने के कारण उस पर कर्ज था इसलिए वह भी इसके लिए तैयार हो गया।

फुटेज से मिला सुराग, 42 लाख के हीरे थे डिक्की में

साजिश के मुताबिक दोनों टेम्पो में पीछा कर परेश के पीछे वहां पर आए। परेश के स्कूटर पार्क करने पर राहुल ने टेम्पो इस तरह पार्क किया कि स्कूटर पर परेश की नजर न पड़े। फिर घनश्याम टेम्पो से उतरा और नकली चाबी से स्कूटर खोल कर फरार हो गया। सीसीटीवी फुटेज में राहुल और उसके टेम्पो के जरिए पुलिस ने दोनों गिरफ्तार कर लिया। उनके कब्जे से 42 लाख के हीरे भी बरामद कर लिए। परेश ने अपनी शिकायत में 30 लाख के हीरे होने की बात बताई थी लेकिन डिक्की में कुल ४२ लाख के हीरे थे।

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned