मिशन एडमिशन: डी टू डी की 44398 सीटों के सामने दूसरे प्रवेश राउंड के बाद 36587 सीट रिक्त

- सरकारी कॉलेज की 1019 सीट और स्वनिर्भर की 35568 सीटों के लिए पुनः प्रवेश राउंड की घोषणा करनी पड़ी

By: Divyesh Kumar Sondarva

Updated: 15 Sep 2021, 01:39 PM IST

सूरत.
डिप्लोमा से डिग्री इंजीनियरिंग में प्रवेश के दूसरे राउंड की प्रक्रिया पूर्ण करने की घोषणा की गई है। दूसरे राउंड के अंत में 11173 विद्यार्थियों ने विभिन्न कॉलेजों में प्रवेश लिया है। सरकारी और सवनिर्भर कॉलेजों को मिलाकर दूसरे प्रवेश राउंड के बाद भी डी टू डी की 36587 सीटें खाली पड़ी है। इन सीटों को भरने के लिए पुनः प्रवेश प्रक्रिया की घोषणा की गई है।
डिप्लोमा इंजिनियरिंग करने वाले विद्यार्थियों को डी टू डी प्रवेश प्रक्रिया के माध्यम से सीधा डिग्री के दूसरे साल में प्रवेश दिया जाता है। इसके लिए 10 प्रतिशत सीट आरक्षित राखी जाति है। इस साल डी टू डी की 44398 सीट के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई थी। प्रवेश के दो राउंड के बाद सरकारी कॉलेज की 4305 सीट के लिए 3286 सीटों पर विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है। 1098 सीट रिक्त रह गई है। स्वनिर्भर की 39794 सीटों पर मात्र 4226 विद्यार्थियों ने ही प्रवेश लिया है। इसके अलावा ट्यूशन फीस की सभी 299 सीट भर गई है। कुल मिलाकर 44398 सीटों के सामने 7811 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है और सीधे सीधे 36587 सीट रिक्त रह गई है। सरकारी और स्वनिर्भर की रिक्त सीट भरने के लिए एडमिशन कमेटी हो पुनः प्रवेश प्रक्रिया की घोषणा करनी पड़ी है। सरकारी कॉलेज की 1019 सीट के लिए विद्यार्थियों को 16 सितंबर तक प्रवेश कमेटी के सामने आवेदन करना होगा। 20 सितंबर को मेरिट लिस्ट जारी की जाएगी। स्वनिर्भर की 36587 रिक्त सीट के लिए 2 सितंबर से 10 अक्टूबर तक कॉलेज में प्रेवश फार्म वितरित किए जाएंगे। रिक्त पड़ी सीटों को भरने के लिए पुनः प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई है।
---

Show More
Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned