Surat/ बारिश में शहर की 529 सड़कें बन गई खस्ताहाल

मनपा ने करवाया सर्वे, एक साल पहले बने 1200 में से 77 सड़कों पर तो पांच साल पुराने और 1670 सड़कों में से 452 पर गड्ढे

By: Sandip Kumar N Pateel

Published: 26 Sep 2021, 10:26 PM IST

सूरत. शहर में इन दिनों हुई भारी बारिश से शहर की अधिकतर सड़कें खस्ताहाल हो चुकी है और वाहन चालक परेशान हैं। शहरवासियों की शिकायत के बाद मनपा ने शहर की सड़कों का सर्वे करवाया है, जिसमें शहर की 529 सड़कें खस्ताहाल होने का सामने आया है। इन सड़कों पर कुल 2332 गड्ढे बने हुए हैं।

अगस्त महीना सूखा बीतने के बाद सितम्बर महीने में भारी बारिश हुई हैं। बारिश के कारण शहर की सड़कों पर जगह जगह गड्ढे बन गए हैं और वाहन चालक परेशान हो रहे हैं। वहीं, हादसे का जोखिम हमेशा बना रहता है। सड़कों के खस्ता होने की शिकायतें रोजाना मनपा को मिल रही है। जिससे मनपा ने शहर की सड़कों का सर्वे कराया। सर्वे में पता चला कि शहर की 529 सड़कें खस्ताहाल हो गई है। वहीं, इन सड़कों पर 2332 गड्ढे हैं।


पांच साल तक होती है ठेकेदार की गारंटी

मनपा के टेंडर की शर्तो के मुताबिक, डामर की सड़कों में पांच साल तक ठेकेदार की गारंटी होती है। सर्वे में 1200 सड़कें ऐसी थी कि जो पांच साल के अंदर की थी और इनमें से 77 सड़कें खस्ताहाल हो चुकी है और इन्हें रिपेयर करने की जिम्मेदारी ठेकेदार की है। जबकि 1670 सड़कें ऐसी है कि जिनके निर्माण को पांच साल से अधिक का समय हो गया है और इनमें से 452 सड़कें खस्ताहाल हो चुकी हैं। यही नहीं, मनपा की टीम ने सड़कों पर बने गड्ढों की गिनती भी की है और कुल 529 सड़कों पर 2332 गड्ढे हैं।

452 सड़कों की मरम्मत मनपा की तिजोरी से

ठेकेदार की गारंटी वाले सड़कों की मरम्मत का काम तो ठेकेदारों को उनके खर्च से करना होगा, लेकिन पांच साल पुरानी 452 सड़कें हैं, जिन्हें मनपा को खुद ही रिपेयर करनी होगी।

किस जोन में कितने गड्ढे

जोन गड्ढे
उधना 528
वराछा - ए 168
वराछा - बी 111
कतारगाम 136
लिंबायत 105
रांदेर 165
अठवा 148
सेंट्रल 463

Sandip Kumar N Pateel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned