580 यूनिट रक्त संग्रह

256 चश्मा का वितरण

By: विनीत शर्मा

Published: 07 Jan 2019, 09:40 PM IST

वापी. उद्योगपति एनआर अग्रवाल की पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में वापी और सरीगाम में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया था। शिविर में 580 यूनिट रक्त संग्रहित किया गया।

सरीगाम इंडस्ट्रीज एसोसिएशन की ओर से एसआईए हाल में आयोजित शिविर में 370 यूनिट रक्त एकत्रित कर सैकड़ों लोगों की नेत्र जांच की गई। इसमें से 254 लोगों को चश्मा प्रदान किया गया। इस शिविर का उद्घाटन वापी पुलिस उपाधीक्षक वीरभद्र सिंह जाडेजा ने किया। इस अवसर पर उन्होंने औद्योगिक इकाइयों द्वारा किए जा रहे सेवा कार्यों की प्रशंसा की।

एसआईए सोशल वेलफेयर कमेटी प्रमुख बी के दायमा ने कार्यक्रम के आयोजन पर प्रकाश डाला। जीपीसीबी के क्षेत्रीय अधिकारी एचएम गामित व वीरभद्रसिंह जाडेजा ने रक्तदान में सहयोगियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। वापी की गायत्री शक्ति पेपर मिल व एनआर अग्रवाल इंडस्ट्रीज मे आयोजित शिविरों में भी 210 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। शिविर को सफल बनाने में न्यूकेम ब्लड बैंक और श्रीमती पुरीबेन पोपटलाखा ब्लड बैंक, वलसाड रक्तकेन्द्र व मानव आरोग्य चिकित्सा सेवा केन्द्र पारडी ब्लड बैंक के स्टाफ ने अपनी सेवाएं प्रदान की।

350 रोगियों की जांच

इसी क्रम में सरीगाम के केडीबी हाइस्कूल परिसर में एनआर अग्रवाल इंडस्ट्रीज लि व श्रीमद राजचंद्र आश्रम धरमपुर द्वारा आयोजित सर्व रोग निदान शिविर में विभिन्न रोगों के विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वाार 350 रोगियों की जांच कर उन्हें दवाई प्रदान की गई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि उद्योगपति रौनक अग्रवाल ने बताया कि उनकी कंपनी द्वारा श्रीमद राजचंद्र मिशन के सहयोग से सरीगाम के आसपास के ग्रामीण इलाकों में दो साल तक समयबद्ध तरीके से इस तरह के शिविरों का आयोजन किया जाएगा। गंभीर रोगों से पीडि़त गरीबों का मिशन के अस्पताल में नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था की जाएगी। कार्यक्रम के अध्यक्ष व नेशनल एजुकेशन ट्रस्ट प्रमुख मनहर भाई शाह ने शिविर के आयोजन की सराहना की।

जैन श्रद्धालुओं ने लिया सत्संग का लाभ

वांसदा. जैन संत धर्मबोधिविजय के सानिध्य में 35 भावकों ने अखंड तप की आराधना की। शांतिधारा अभिषेक पूजा विश्वशांति संकल्प के साथ संपन्न की गई। सोमवार को जैन अग्रणियों ने दस दिन की स्थिरता सत्संग का लाभ लिया। यहां से संत विहार कर मोटी वालझर पहुंचेंगे। उनके विहार के दौरान काफी संख्या में भाविकउपस्थित रहे। गौरतलब है कि एक वर्ष पूर्व संत ने वांसदा में चातुर्मास किया था।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned