यातायात से राहत के लिए फिर से बनेंगे 67 जंक्शन

यातायात के बोझ से बेहाल लोगों को राहत देने की तैयारी है। मनपा प्रशासन जगह-जगह बने ऐसे ६७ जंक्शन को फिर से बनाने जा रहा है, ताकि लोगों को जाम से निजात मिल सके। एसवीएनआइटी ने ऐसे छह जंक्शन पर कवायद पूरी कर ली है। २२ जंक्शनों की रिपोर्ट महीने के अंत तक आने की तैयारी है।

By: मुकेश शर्मा

Updated: 25 Nov 2018, 11:34 PM IST

सूरत।यातायात के बोझ से बेहाल लोगों को राहत देने की तैयारी है। मनपा प्रशासन जगह-जगह बने ऐसे ६७ जंक्शन को फिर से बनाने जा रहा है, ताकि लोगों को जाम से निजात मिल सके। एसवीएनआइटी ने ऐसे छह जंक्शन पर कवायद पूरी कर ली है। २२ जंक्शनों की रिपोर्ट महीने के अंत तक आने की तैयारी है।

ट्रैफिक जाम से जहां व्यक्ति की कार्यक्षमता प्रभावित होती है, ईंधन की बर्बादी भी होती है। कार्बन जलने से प्रदूषण का स्तर भी बढ़ता है। इससे निजात के लिए मनपा प्रशासन की कोशिश है कि शहर में लोग अवरोध में न फंसें और ट्रैफिक जंक्शन पर भी वाहन आसानी से चलें।

मनपा ने सर्वे कराया तो पता चला कि शहर के आइलैंड सर्किल और ट्रैफिक जंक्शन इसकी बड़ी वजह साबित हो रहे हैं। इससे निजात के लिए मनपा प्रशासन ने शहर के ७५ ट्रैफिक जंक्शन की रिमॉडलिंग करने का निर्णय किया।

इनमें से ६७ जंक्शन का चुनाव किया गया, जिन्हें रिडिजाइन किया जाएगा। इसकी शुरुआत अठवा और स्टार बाजार समेत छह जंक्शन से होगी।

इनकी डिजाइन पर काम पूरा हो चुका है। महीने के अंत तक २२ और जंक्शन पर रिपोर्ट मिलने की उम्मीद है। रिडिजाइनिंग का काम एसवीएनआइटी को सौंपा गया है। एसवीएनआइटी ने ट्रैफिक के दबाव और जरूरत के मुताबिक जंक्शन को वरीयता दी।

पहले चरण में उन जंक्शन को लिया गया है, जहां जरूरत सबसे ज्यादा महसूस की गई। प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक काम पूरा होने तक यह संख्या ७५ से पार भी जा सकती है।

पुराने आरटीओ से अठवा सर्किल तक फोकस

अठवा सर्किल पर ट्रैफिक का दबाव सबसे ज्यादा रहता है। पीक आवर्स में और दोपहर यहां से गुजरना जंग जीतने जैसा होता है। अधिकारियों के मुताबिक इस समस्या ने ध्यान खींचा तो शहर के अन्य जंक्शन पर भी नजर दौड़ाई गई। अठवा सर्किल को उन छह जंक्शन में शामिल किया गया है, जिन पर सबसे पहले काम शुरू होगा। पुरानेे आरटीओ से अठवा सर्किल तक पूरे जोन को हैवी ट्रैफिक जोन मानते हुए रिडिजाइन किया गया है।

ब्लड बैंक में आग


मनपा संचालित स्मीमेर अस्पताल के ब्लड बैंक में बुधवार सुबह आग लगने से अफरा-तफरी मच गई। दमकलकर्मियों ने आग पर काबू पाया। दमकल अधिकारी ने बताया कि आग के कारण फाइलें, मरीजों के सैम्पल और फ्रीज को नुकसान पहुंचा। हादसे में किसी तरह की जन हानि नहीं हुई।

विनीत शर्मा

 

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned