script80 of the students have more attachment to mobile than studies | अभिभावकों के लिए चेतावनी : 80 प्रतिशत विधियार्थीओं को पढ़ाई से ज्यादा हुआ मोबाइल से लगाव | Patrika News

अभिभावकों के लिए चेतावनी : 80 प्रतिशत विधियार्थीओं को पढ़ाई से ज्यादा हुआ मोबाइल से लगाव

- कक्षा 6 से 8 के 2200 विद्यार्थी और अभिभावकों के सर्वे में मिली चौकाने वाली जानकारी
- 45 प्रतिशत से अधिक अभिभावकों को पता ही नहीं विद्यार्थी इंटरनेट पर क्या कर रहा है सर्च
- 81 प्रतिशत से अधिक अभिभावकों का कहना है की मोबाइल का अधिक उपयोग नुकसान, फिलहाल कोई रास्ता नहीं

सूरत

Published: October 26, 2021 10:26:02 pm

सूरत.
कोरोना के चलते ऑनलाइन शिक्षा का चलन बढ़ने के साथ विद्यार्थियों में मोबाइल का लगाव भी बढ़ गया होने की शिकायत भी बढ़ने लगी है। मोबाइल का दुगना उपयोग बढ़ने के साथ विद्यार्थियों सोशल साइट और ऑनलाइन गेम में भी अधिक सक्रिय हो गए है। इसके कारण इसका असर विद्यार्थियों की पढ़ाई पर होने लगा है। ऐसे में सूरत के लसकाना स्थित जे. बी एंड कार्प विद्यासंकुल ने कक्षा 6 से 8 के विद्यार्थियों का ऑनलाइन शिक्षा को लेकर एक सर्वे किया। जिसके नतीजे ने सभी को चौंका दिया है। सर्वे के अनुसार 80.17 प्रतिशत विद्यार्थी के आलावा एक से अधिक घंटा मोबाइल पर बीता रहने का सामने आया है।
कोरोना के कारण के. जी से लेकर पीएचडी की पढ़ाई ऑनलाइन हो गई है। ऑनलाइन पढ़ैंके बाद ऑफलाइन मोड में आने पर विद्यार्थियों की पढ़ाई में कई दिक्कत सामने आई इसलिए लसकाना स्थित जे. बी एंड कार्प विद्यासंकुल ने कक्षा 6 से 8 के 2200 से अधिक विद्यार्थियों और अभिभावकों का सर्वे किया। इस सर्वे में मोबाइल, इंटरनेट और सोशल मीडिया के उपयोग को शामिल किया गया है। सर्वे के बाद चौकाने वाली हक्किया सामने आई है। इस सर्वे में विद्यार्थियों को पढ़ाई के अलावा मोबाइल उपयोग के 13 और अभिभावकों को 16 सवाल पूछे गए थे।
अभिभावकों के लिए चेतावनी : 80 प्रतिशत विधियार्थीओं को पढ़ाई से ज्यादा हुआ मोबाइल से लगाव
अभिभावकों के लिए चेतावनी : 80 प्रतिशत विधियार्थीओं को पढ़ाई से ज्यादा हुआ मोबाइल से लगाव
प्रतिबंध के बावजूद विद्यार्थी खेल रहे है खतराना गेम:
इसमें 1521 यानी के 80.17 प्रतिशत विद्यार्थियों ने पढ़ाई के अलावा एक से अधिक घंटा मोबाइल का अन्य उपयोग करने का कबूल किया है। 1013 यानी के 53.40 प्रतिशत विद्यार्थियों ने मोबाइल ऑनलाइन गेम डाउनलोड कर खेलने का कबूल किया है। 108 विद्यार्थियों ने पब-जी गेम डाउनलोड किया होने का सामने आया है। 763 यानी के 54.42 विद्यार्थी ऑनलाइन गेम खेलते होने का स्वीकार किया है। पब-जी और ब्लू व्हेल गेम पर सरकार ने रोक लगाई है। सभी स्कूल और विद्यार्थियों को इससे दूर रहने का आदेश भी दिया है। इन गेम के आदि होने पर कई विद्यार्थियों और युवाओं की जान भी गई है। ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान इसका गुपचुप रूप से इस का चलन बढ़ा है। जो एक बड़े खतरे की निशानी है।
अभिभावक भी गेम खेलने के हुए आदि:
स्कूल ने विद्यार्थियों के साथ अभिभावकों का भी सर्वे किया। इसमें पता चला की कई अभिभावकों को भी मोबाइल की बुरी लत लगी हुई है। 1557 यानी 81.43 प्रतिशत अभिभावक मोबाइल का अधिक उपयोग करना नुकसान मान रहे हैं। फिर भी 84.26 प्रतिशत अभिभावकों मोबाइल में इंटरनेट का उपयोग करते होने का और 32.22 प्रतिशत ऑनलाइन गेम खेलते होने का स्वीकार किया है। इनमें से 5.33 अभिभावकों के यूट्यूब पर खुद का चैनल भी है। 4.76 प्रतिशत अभिभावकों बताया की उनके बच्चों ने मोबाइल में गेम को छुपाकर रखा है।
(बॉक्स)
आधे अभिभावकों नही पता विद्यार्थी क्या कर रहा है सर्च:
सर्वे में सबसे अधिक चौकाने वाली बात यह जाने को मिली के आधे से अभिभावकों को पता ही नही उनका बच्चा इंटरनेट पर क्या सर्च कर रहा है। 45.08 प्रतिशत अभिभावकों को पता ही नहीं चल रहा है कि उनका बच्चा गूगल पर क्या सर्च कर रहा है। 1653 यानी के 87.14 बच्चों का सोशल मीडिया पर खुद का निजी अकाउंट है। 1735 यानी के 91.46 प्रतिशत विद्यार्थियों को यूट्यूब देखना पसंद है। 137 विद्यार्थियों के तो खुद के यूट्यूब पर चैनल है।
---
मोबाइल का ज्यादा उपयोग नुकसान है:
कोरोना के बाद आज के समय में बढ़े मोबाइल के चलन को लेकर उसके उपयोग और वास्तविकता जाने के लिए सर्वे किया गया था। जिससे पता लगा की 80 प्रतिशत से अधिक अभिभाक मोबाइल के अधिक उपयोग को नुकसान मान रहे है। फिर भी आज सब मजबूर है।
मनशुख ठुम्मर, प्राचार्य,जे. बी एंड कार्प विद्यासंकुल
मजबूर है क्या करे:
सब जानते है बच्चों को मोबाइल से दूर रखना चाहिए। पहले सब इस पर ध्यान भी रखते थे। लेकिन आज पढ़ाई का मुख साधन ही मोबाइल हो गया है। तो क्या कर सकते है। सभी अभिभावक इसे लेकर मजबूर है। कोई दूसरा रास्ता नहीं हैं।
अरविंद राजानी, अभिभावक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.