गुप्ता बंधुओं पर हमला करने वाला हिस्ट्रशीटर निकला

 

- क्राइम ब्रांच ने पांडेसरा के गोवालक रोड से किया गिरफ्तार
- पकडऩे के प्रयास के दौरान चाकू से किए थे वार, एक की मौत

 

By: Dinesh M Trivedi

Published: 11 Sep 2021, 10:47 AM IST

सूरत. पांडेसरा में देर रात घर में चोरी के बाद चोर को पकडऩे के प्रयास करने वाले मृतक बिरेन्द्र गुप्ता व उसके भाई विष्णु पर चाकू से हमला करने वाला नौसिखिया अपराधी नहीं, बल्कि हिस्ट्रीशीटर निकला। घटना के बाद जांच में जुटी क्राइम ब्रांच ने गुरुवार देर रात उसे पांडेसरा इलाके से ही धर दबोचा। उसके कब्जे से चुराए गए रुपए और दो मोबाइल फोन भी जब्त किए है।

क्राइम ब्रांच के सहायक पुलिस आयुक्त आरआर सरवैया ने बताया कि पांडेसरा गोवालक रोड डायमंड नगर निवासी रोहित पाठक (24) हिस्ट्रीशीटर है। उत्तरप्रदेश के फैजाबाद जिले के नंदलाल पुरवा गांव के मूल निवासी रोहित के खिलाफ शहर के अलग- अलग थानों में आधा दर्जन मामले दर्ज हो चुके हैं। उसने पूछताछ में बताया कि वह बुधवार मध्यरात्रि बाद पांडेसरा तेरेनाम रोड स्थित मणिनगर सोसायटी में चोरी करने के लिए गया था। उसने मणिनगर सोसायटी के ही एक मकान में घुस कर दो मोबाइल फोन चुराए। उसके बाद वह विष्णु गुप्ता के घर में घुसा फिर पेंट से पर्स निकाला।

वह पर्स लेकर निकल ही रहा था। उसी समय कमरे में सो रहे बिरेन्द्र की नींद खुल गई। बिरेन्द्र अपने भाई विष्णु के साथ उसकी तलाश में बाहर निकला और चोर को विरेन्द्र ने उसे पीछे से पकड़ लिया। इस पर उसने चाकू से बिरेन्द्र के गले पर वार कर दिया। विष्णु ने बीच बचाव किया तो उस पर भी हमला किया। इससे बिरेन्द्र की पकड़ ढीली पड़ी तो वह भाग निकला। गंभीर रूप से घायल बिरेन्द्र ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। सुबह मामला सामने आने पर क्राइम ब्रांच ने इलाके के हिस्ट्रीशीटरों को खंगाला और पांडेसरा डायमंड नगर से देर रात रोहित को हिरासत में लिया।

पूछताछ में उसने गुनाह कबूल कर लिया। उसके कब्जे से दो मोबाइल समेत चोरी साढ़े बारह हजार रुपए भी बरामद हुए। परिजनों ने रोहित को कड़ी सजा देने की मांग की है। उन्होंने बताया कि मृतक बिरेन्द्र चार भाइयों में सबसे छोटा था। वह घर के निकट ही पान मसाले का कारोबार करता था।

हत्या के मामले में भी लिप्त :


पुलिस ने बताया कि रोहित के खिलाफ पिछले साल पांडेसरा में ही हत्या का मामला दर्ज हुआ था। इसके अलावा उसके खिलाफ रॉयोटिंग के भी दो मामले दर्ज हो चुके हैं। हमलावर प्रवृर्ति के चलते पुलिस ने पिछले साल उसे पासा के तहत गिरफ्तार कर साबरमती सैन्ट्रल जेल भी भेजा था।
-----------------------

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned