मन की कल्पना को साकार करने वाला मशीन आ गया प्रिन्टिंग में !!!

सूरत का कपड़़ा उद्योग डिजिटल प्रिन्ट की ओर, सिटमे एग्जिबिशन में डिजिटल प्रिन्ट और एम्ब्रॉयडरी मशीनों की बोलबाला

By: Pradeep Mishra

Published: 03 Jan 2020, 09:07 PM IST

सूरत
सूरत का कपड़ा उद्योग अब पारंपरिक पद्धति को छोड़कर ग्राहकों की पसंदगी की राह पर चल पड़ा है। सूरत में पिछले कुछ वर्षो में डिजिटल प्रिन्ट की मशीनों की डिमांड में ईजाफा हुआ है।
कपड़ा उद्यमियों का कहना है कि अब तक सूरत में ज्यादातर काम पुरानी पद्धति से चल रहे पारंपरिक प्रिन्टिंग मशीनों पर ही हो रहा था, लेकिन बीते कुछ वर्षो में सूरत के उद्यमियों ने डिजिटल प्रिन्ट की ओर भी कदम रखा है। पारंपरिक प्रिन्टिगं मशीनों के लिए जॉबवर्क के लिए कम से कम एक सीमा रखी जाती है वह इनसे कम का उत्पादन नहीं कर सकता, जबकि आधुनिक डिजिटल प्रिन्ट का काम एक मीटर कपड़े पर भी हो सकता है। इसके अलावा इसमें कलर-केमिकल का उपयोग भी कम होता है। इस पर उद्यमी अपनी कल्पना के अनुसार प्रिन्ट कर सकते हैं। पुरानी मशीनों की अपेक्षा डिजिटल प्रिन्ट बहुत कम जगह लेती है। साथ ही पानी का प्रदूषण भी कम होने के कारण नए उद्यमियों को यह पसंद आ रही है। इस बार सिटमे एग्जिबिशन में भी एम्बॉयडरी और डिजिटल प्रिन्ट की मशीनों की संख्या ज्यादा है। यह मशीनें ज्यादातर जापान सहित अन्य देशों के हैं।
डिजिटल प्रिन्ट मशीन व्यवसायी आयुष राठी ने बताया कि बदलती फैशन के अनुरूप के कपड़े डिजिटल मशीनों पर बन सकते हैं। यह पर्यावरण फ्रेन्डली होने के कारण उद्यमियों को पसंद आ रहे हैं। इनकी उत्पादन क्षमता भी सामान्य प्रिन्टिंग मशीनों से अधिक है।

Pradeep Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned