पुलिस की पिटाई के खिलाफ एबीवीपी ने वीएनएसजीयू में किया उग्र विरोध प्रदर्शन

- वीएनएसजीयू रोड पर कार्यकर्ताओं ने किया चक्का जाम
- पुलिस के खिलाफ कारवाई की मांग को लेकर कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन
- नाराज एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने उमरा पुलिस थाने का किया घेराव, पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की मांग की

By: Divyesh Kumar Sondarva

Published: 14 Oct 2021, 12:49 PM IST

सूरत.
वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय परिसर में सोमवार रात नवरात्रि के आयोजन को लेकर उमरा पुलिस और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं के बीच हुई मारपीट के मामले को लेकर मंगलवार वीएनएसजीयू परिसर में बड़ा हंगामा हुआ। एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने उमरा पुलिस के खिलाफ विरोध करते हुए नारे लगाए। कार्यकर्ताओं ने रोड पर चक्का जाम कर विरोध प्रदर्शन किया। सभी कार्यकर्ता कलेक्टर कार्यालय पर ज्ञापन सौंप पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की मांग की। यहां भी कार्यकर्ताओं का गुस्सा शांत नही हुआ। सभी उमरा पुलिस थाने पर पोहंचे और थाने का घेराव कर पुलिस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।
वीएनएसजीयू कनवेंशन हॉल के पास एबीवीपी की ओर से सोमवार रात नवरात्रि का आयोजन किया गया था। पुलिस की अनुमति बिना आयोजन किया होने के कारण उमरा पुलिस कर्मी वीएनएसजीयू परिसर पोहंचे। पुलिस ने आयोजन बंद करने के लिए निर्देश दिए। इस बात को लेकर एबीवीपी और पुलिस के बीच कहासुनी हुई। मामला गरम हो जाने पर पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट हो गई। उमरा पुलिस ने कई कार्यकर्ताओं को जबरन पुलिस वेन में बिठाकर हिरासत में लिया। उमरा पुलिस थाने में देर रात तक पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच हंगामा चलता रहा। मंगलवार को मामला और भी अधिक गरमाया। बड़ी संख्या में कार्यकर्ता वीएनएसजीयू परिसर में एकत्रित हुए। सभी ने पुलिस की ओर से की गई करवाई के खिलाफ विरोध किया। सभी ने उमरा पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की मांग की। देर तक विवि परिसर में कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया।
- वीएनएसजीयू रोड पर किया चक्का जाम:
कार्यकर्ताओं का आक्रोश शांत नहीं हो रहा था। सभी विवि मुख्य गेट पर एकत्रित हुए। यहां रोड पर कार्यकर्ताओं ने चक्का जाम किया। सभी एक सुर में पुलिस कर्मियों को निलंबित करने के नारे लगाते रहे।
- सीधे पोहंचे कलेक्टर कार्यालय:
बादमें कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर कार्यालय जाने का तय किया। वीएनएसजीयू से सीधे कलेक्टर कार्यालय पोहंचे। कलेक्टर को पुलिस पर गलत तरीके से उनके खिलाफ कारवाई करने का आरोप लगाया। कलेक्टर को कार्यकर्ताओं ने पुलिस के खिलाफ कड़े कदम उठाने की मांग के साथ ज्ञापन सौंपा।
- उमरा पुलिस थाने का किया घेराव
कलक्टर कार्यालय से कार्यकर्ता उमरा पुलिस थाने पोहंचे। कार्यकर्ताओं ने पुलिस थाने का घेराव किया। यहां पुलिस के खिलाफ नारे लगाए और पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की मांग की।
नही नजर आई पुलिस:
सोमवार रात पुलिस की ओर से की गई करवाई के खिलाफ मंगलवार सुबह एबीवीपी के कार्यकर्ता वीएनएसजीयू में एकत्रित हुए थे। लेकिन इस दौरान एक भी पुलिस कर्मी वीएनएसजीयू परिसर में नजर नहीं आया। जब भी वीएनएसजीयू में बड़ी संख्या में विद्यार्थी या विद्यार्थी संगठन कार्यकर्ता एकत्रित होते है तो पुलिस भी आती है। लेकिन मंगलवार को कोई नजर नहीं आया।
कुलपति की अनुमति सवालों के घेरे में:
कोरोना के चलते सरकार ने सार्वजनिक नवरात्रि आयोजन पर रोक लगाई है। वीएनएसजीयू में सोमवार को नवरात्रि आयोजन को लेकर एबीवीपी ने कुलपति को ओर से अनुमति देने का राग अलापा। सरकार की ओर से मना किए जाने के बाद भी कुलपति की तरफ से दी गई अनुमति किस अधिकार क्षेत्र में आ रही है इससे लेकर तरह तरह के सवाल हो रहे है।
बिना अनुमति पुलिस का आना चर्चा का विषय:
विश्वविद्यालय शिक्षा का मंदिर है। वीएनएसजीयू परिसर में पुलिस के प्रवेश कर नवरात्रि खेल रहे कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट करने की चर्चा ने शिक्षा जगत में तुल पकड़ लिया है। बिना कुलपति के अनुमति के पुलिस का विवि परिसर में आना गैर कानूनी होने की चर्चा शिक्षा जगत में होने लगी है।
राज्यभर में उमरा पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन
वीएनएसजीयू में हुई सोमवार रात की घटना के खिलाफ अहमदाबाद, वडोदरा के साथ राज्य के अन्य कई शहरों में उमरा पुलिस के खिलाफ एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। साथ ही वहां के प्रशासन को उमरा पुलिस के खिलाफ कारवाई करने के लिए सरकार पर दबाव बनाने की मांग की।
----
कुलसचिव ने कारवाई के लिए किया आवेदन
विवि के कार्यकारी कुलसचिव जयदीप चौधरी ने उमरा पुलिस थाने के पीआई को विद्यार्थियों पर हमला करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ कारवाई करने के लिए आवेदन भेंजा है। कुलपति की अनुमति बिना विवि परिसर में पुलिस कर प्रवेश करना योग्य नहीं है। ऐसे पुलिस कर्मी के खिलाफ कानूनी कारवाई करने की मांग की है।
---
आंदोलन रहेगा जारी:
पुलिस ने नवरात्रि आयोजन बंद करवाने के लिए मारपीट की। अप शब्दों का प्रयोग किया। मेरे साथ भी मारपीट की गई। पुलिस का व्यवहार गैर कानूनी था। जब तक दोषी पुलिस कर्मियों को निलंबित नही किया जाएगा एबीवीपी को ओर से आंदोलन जारी रहेगा।
हिमालय सिंह झाला, प्रदेश प्रमुख, एबीवीपी
--
सीसी टीवी फुटेज अहम कड़ी
पुलिस को पहले जानकारी देनी थी। जो हुआ उसे लेकर विद्यार्थियों के साथ है। इस मामले में सीसी टीवी फुटेज एकत्रित किए जा रहे है। इस आधार पर जांच होंगी।
डॉ. के. एन.चावड़ा, कुलपति, वीएनएनजीयू

Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned