प्रदूषण बढ़ाने वाले उद्योगों के खिलाफ होगी कार्रवाई

प्रदूषण बढ़ाने वाले उद्योगों के खिलाफ होगी कार्रवाई

Sunil Mishra | Updated: 04 Jun 2019, 10:22:35 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India


सीओडी को नियंत्रित करने के लिए उठाएंगे कड़े कदम
आनन-फानन में बुलाई बैठक में लिए फैसले
वापी ग्रीन एन्वायरो के 11 निदेशकों को जीपीसीबी का नोटिस


वापी. वापी ग्रीन एन्वायरो के 11 निदेशकों को गांधीनगर जीपीसीबी द्वारा नोटिस जारी करने के बाद उत्पन्न स्थिति पर विचार करने के लिए मंगलवार को वीआइए में वापी ग्रीन एन्वायरो समेत सीईटीपी से संबद्ध इकाइयों के सदस्यों की बैठक बुलाई गई। इसमें वापी ग्रीन एन्वायरो द्वारा सीओडी को नियंत्रित करने के लिए कड़े कदम उठाने की जानकारी देते हुए प्रदूषण बढ़ाने वाले उद्योगों के खिलाफ भी कार्रवाई की चेतावनी दी गई। बीते दिनों नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की ओर से मिले सख्त दिशा निर्देशों और गुजरात प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की नाराजगी के कारण उद्योगपतियों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच गई हैं। मंगलवार को सीईटीपी का संचालन करने वाली वापी ग्रीन एन्वायरो के सदस्यों ने कंपनियों के प्रतिनिधियों को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि सीईटीपी के इनलेट का मानक स्तर बनाए न रखने वाले उद्योगों को बख्शा नहीं जाएगा, फिर वह बड़ी कंपनी हो या छोटी। यह भी कहा गया कि कुछ कंपनियों की करतूत के कारण पूरे औद्योगिक क्षेत्र को परिणाम भुगतना पड़ रहा है। जिस कंपनी का सीईटीपी में सीओडी एक हजार से ज्यादा आएगा और गत कुछ माह में एक से ज्यादा बार क्लोजर मिल चुका होगा उस कंपनी के ड्रेनेज प्वाइंट को सील करने की चेतावनी भी दी गई। ऐसी कंपनियों को एफ्लुएन्ट टैंकर में भरकर उनके खर्च से सीईटीपी प्लांट में लाना होगा। इसके अलावा जीआईडीसी में जीरो डिस्चार्ज वाले उद्योगों को भी ड्रेनेज एवं आउटलेट सील करने की ताकीद की गई है।
उल्लेखनीय है कि गत कुछ समय से सीईटीपी के इनलेट में सीओडी का प्रमाण दो हजार से ज्यादा पाया गया है। गत माह एनजीटी की ओर से डिफाल्टर कंपनियों के नामों की सूची जारी करने की सूचना का अमल भी वापी ग्रीन एन्वायरो की ओर से न देने पर जीपीसीबी ने इसके 11 निदेशकों को नोटिस जारी कर 15 दिन में जबाव मांगा है। इसमें वापी में प्रदूषण नियंत्रण न होने पर वापी ग्रीन को जिम्मेदार ठहराने की चेतावनी दी गई है। इसके बाद कंपनी के निदेशकों और कंपनी मालिकों में हडक़ंप मच गया था। इसके चलते मंगलवार को अचानक बैठक कर आगे की रणनीति बनाई गई। मंगलवार को वीआइए में हुई बैठक में वीआइए प्रमुख प्रकाश भद्रा, वापी ग्रीन के निदेशक एसएस सरना, चेतन पटेल समेत अग्रणी उद्योगपतियों ने भी संबोधित किया और उद्योगों के हित में नियमों का पालन करने का अनुरोध किया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned