300 करोड़ का फर्जी बिलिंग घोटाले में अभिनय अग्रवाल की जमानत याचिका नामंजूर

निचली कोर्ट ने भी रद्द की थी याचिका

सूरत. कर्मचारियों के नाम से फर्जी कंपनियां बनाकर 300 करोड़ रुपए से अधिक का फर्जी बिलिंग घोटाला करने के आरोप में गिरफ्तार अभिनय अग्रवाल को सेशन कोर्ट से भी राहत नहीं मिली। शनिवार को अंतिम सुनवाई के बाद सेशन कोर्ट ने उसकी नियमित जमानत याचिका नामंजूर कर दी।


सह अभियुक्तों को जमानत मिलने के बाद अभिनय अग्रवाल ने निचली कोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी, लेकिन कोर्ट ने नामंजूर कर दी थी। इसके बाद उसने सेशन कोर्ट में याचिका दायर की थी। सुनवाई के दौरान मुख्य लोकअभियोजक नयन सुखड़वाला ने दलीलें पेश कर याचिका का विरोध किया। अभियुक्त पर लगे गंभीर आरोप और लोकअभियोजक की दलीलों को ध्यान में रखते हुए सेशन कोर्ट ने याचिका नामंजूर कर दी।


गौरतलब है कि जीएसटी विभाग ने 18 जुलाई को मीत कॉर्पोरेशन, मैसर्स आशी एंटरप्राइज, मैसर्स टी.ए.ट्रेडर्स और मैसर्स विहार ट्रेडर्स के संचालक अभिनय अग्रवाल, अब्दुल्ला मोहम्मद इस्माइल शेख, दिनेशकुमार रामस्नेह पांडेय तथा कृष्णा दीनबंधु जन्ना के खिलाफ गुजरात गुड्स एंड सर्विस टैक्स एक्ट 2017 और सेंट्रल गुड्स एंड सर्विस टैक्स एक्ट की धारा 132(1)(आई) के तहत मामला दर्ज कर चारों को गिरफ्तार कर लिया था। आरोप है कि अभियुक्तों ने मिलकर फर्जी कंपनियां बनाई और उन कंपनियों के जरिए फर्जी बिल बनाकर सरकार को 300 करोड़ से अधिक का चूना लगाया।

Show More
Sandip Kumar N Pateel
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned