AST: चुनाव का रास्ता साफ, तैयारियां हुई तेज

भवन में प्रत्याशियों समेत चुनाव अधिकारियों की बैठक आयोजित, जगह की लिखित अनुमति मिलते ही 15 दिन में होंगे चुनाव

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 24 Sep 2020, 09:31 PM IST

सूरत. जिला प्रशासन से अनुमति मिलने के साथ ही अग्रवाल समाज ट्रस्ट बोर्ड व कार्यकारिणी सदस्यों के चुनाव का रास्ता साफ हो गया है और चुनाव की तैयारियां भी तेज हो गई है। इस सिलसिले में गुरुवार शाम चुनाव अधिकारियों की मौजूदगी में दोनों पक्ष के प्रत्याशियों की आवश्यक बैठक भी आयोजित की गई। बैठक में चुनाव के लिए बड़ी जगह की लिखित अनुमति मिलते ही 15 दिन में चुनाव सम्पन्न कराए जाने का आश्वासन चुनाव अधिकारियों ने दिया है।
शहर के प्रतिष्ठित अग्रवाल समाज ट्रस्ट के ट्रस्ट बोर्ड के तीन व कार्यकारिणी के आठ सदस्य पद रिक्त होने पर अगले दो वर्ष के लिए नए सदस्यों के चुनाव की प्रक्रिया जुलाई से ही प्रारम्भ हो गई थी और जब दोनों तरफ से ट्रस्ट बोर्ड के 3-3 व कार्यकारिणी सदस्य पद के 8-8 उम्मीदवार मैदान में रह गए तब 30 अगस्त को चुनाव निश्चय किए गए थे। अग्रवाल समाज ट्रस्ट के चुनाव की संवेधानिक प्रक्रिया पूरी होने के बाद चुनाव अधिकारी प्रशासनिक मंजूरी के लिए जिला कलक्टर से मिले, लेकिन उस दौरान चुनाव की मंजूरी नहीं मिली थी और चुनाव स्थगित किए गए थे। उसके बाद गत दिनों ही वापस जिला कलक्टर से मिलने पर प्रशासन ने बड़ी जगह व कोविड-19 की गाइडलाइन के पालन के साथ चुनाव कराए जाने की अनुमति दे दी और इसके साथ ही चुनाव की हलचल तेज हो गई। चुनाव का रास्ता साफ होने पर गुरुवार शाम मुख्य चुनाव अधिकारी गोकुलचंद बजाज व सह चुनाव अधिकारी सुरेश अग्रवाल तथा राजेश बिदावतका ने दोनों पक्ष के उम्मीदवारों के साथ आवश्यक बैठक घोड़दौडऱोड पर अग्रवाल समाज भवन में बुलाई। बैठक में जिला प्रशासन से मिली मंजूरी के संदर्भ में जानकारी दी गई और बताया कि चुनाव के सिलसिले में वेसू स्थित अग्रवाल विद्या विहार स्कूल भवन की मंजूरी मांगी गई है और जैसे ही इसकी स्वीकृति लिखित में मिल जाएगी उसके 15 दिन के भीतर चुनाव सम्पन्न करा लिए जाएंगे। बैठक में ट्रस्ट के अध्यक्ष बजरंगलाल गाडोदिया समेत दोनों पक्ष के 20 उम्मीदवार मौजूद थे।

Show More
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned