बाबा की ध्वजयात्रा निकाली, लगाए जयकारे

बाबा की ध्वजयात्रा निकाली, लगाए जयकारे

Sunil Mishra | Publish: Sep, 11 2018 07:04:45 PM (IST) Surat, Gujarat, India

ध्वजयात्रा में बड़ी संख्या में व्यापारी व धर्मप्रेमी भी शामिल हुए


सिलवासा. माली समाज नवयुवक मंडल ने भादी दूज पर मंगलवार सवेरे 7 बजे किलवणी नाका जलाराम मंदिर से बाबा की ध्वज यात्रा निकाली। हाथ में ध्वजा फहराते बाबा के जयकारे लगाते श्रद्धालु मामलतदार, टोकरखाड़ा जंक्शन होते हुए भुरकुड़ फलिया रणुजाधाम पहुंचे। बाबा के दरबार में श्रद्धालुओं ने ध्वजा चढ़ाई एवं प्रदेश में सुख मंगल की कामना की। श्रद्धालुओं ने बाबा के दरबार में धोक लगाकर प्रसाद चढ़ाया। ध्वजयात्रा में बड़ी संख्या में व्यापारी व धर्मप्रेमी भी शामिल हुए। मंडल के मुखिया किशोर माली ने बताया कि भादी दूज पर प्रतिवर्ष बाबा रामदेवजी की ध्वजा यात्रा निकाली जाती है। इसमें समाज के सभी वर्ग के श्रद्धालु हिस्सा लेते हैं। मंडल की और से पांचवी बार बाबा की पैदल ध्वजयात्रा निकली।


लोकदेवता के जन्मोत्सव पर गूंजे भजन
खेरगाम. वलसाड-धरमपुर रोड स्थित दक्षिणेश्वर रणूजाधाम और रुमला के पास सताडिय़ा गांव में मंगलवार को लोकदेवता रामदेव पीर के मंदिर में बाबा का जन्मोत्सव धूमधाम के साथ मनाया गया। इस दौरान स्थानीय एवं प्रवासी राजस्थानी समाज के लोग बड़ी संख्या में मंदिर में पहुंचे और दर्शन-पूजन किया। सुबह से मंदिर में धार्मिक अनुष्ठान शुरू हो गए थे। पूरे दिन मंदिर में भक्तों का तांता लगा रहा।
जन्मोत्सव के अंतर्गत नेजा यात्रा निकाली गई और बाद में मंदिर के शीर्ष पर नई ध्वजा चढ़ाई गई। इस उपलक्ष में मंदिर में भजन संध्या का आयोजन किया गया। इसमें राजस्थान के माही म्यूजिक एण्ड फिल्म कलाकार ललिता पवार, छगन माली व भावना दईया तथा अन्य गुजराती कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियों से लोगों को भाव-विभोर कर दिया। देर रात तक लोगों ने रामदेव पीर के भजनों का आनंद लिया। आयोजित कार्यक्रम में वलसाड, धरमपुर, खेरगाम, वापी, चिखली, बिलीमोरा, वांसदा के अलावा मुंबई व अन्य स्थानों से भी भक्त पहुंचे थे। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए प्रेमसिंह राजपुरोहित, राजू पटेल समेत अन्य लोगों ने खूब कोशिश की। वहीं, भाद्र दूज शुक्ल को लेकर खेरगाम में भी बाबा रामदेव मंदिर और सताडिय़ा मंदिर में भजन संध्या का आयोजन किया गया था। साथ ही खेरगाम देसाईवाड़ स्थित रामदेव मंदिर में नई ध्वजा चढ़ाई गई। इस दौरान बडी संख्या में राजस्थानी समाज के लोग उपस्थित थे।

 

Ad Block is Banned