वापी: दो दिनों की हड़ताल से करोड़ों का लेन देन प्रभावित

निजीकरण का विरोध, पत्रिका वितरित कर बैंक उपभोक्ताओं को जागरूक करेंगे बैंक कर्मी

By: Gyan Prakash Sharma

Updated: 17 Mar 2021, 12:54 AM IST

वापी. सरकारी बैंकों का निजीकरण करने से नाराज बैंक के कर्मचारियों ने दो दिनों की हड़ताल की। सोमवार और मंगलवार को पूरे देश की तरह वापी सहित वलसाड जिले में भी सरकारी बैंक कर्मचारियों ने हड़ताल कर धरना प्रदर्शन भी किया।

दो दिनों तक सरकारी बैंकों में हड़ताल से वापी सहित वलसाड जिले में करोड़ों रुपए का कामकाज प्रभावित हुआ। मंगलवार को वापी में बैंक ऑफ बड़ौदा ब्रान्च के कर्मचारियों ने धरना दिया और केन्द्र सरकार की नीतियों के विरोध में नारेबाजी भी की। बताया गया कि कर्मचारी एवं अधिकारी संगठनों के आह्वान पर यह हड़ताल घोषित थी।

इसमें ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाइज, ऑल इंडिया बैंक एम्प्लॉइज कन्फेडरेशन, बैंक एम्प्लॉइज फेडरेशन ऑफ इंडिया, इंडियन नेशनल बैंक एम्प्लॉइज फेडरेशन, ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन, ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन सहित कई संगठनों ने हड़ताल की थी। बैंक ऑफ बड़ौदा की गुंजन ब्रान्च पर आयोजित धरना प्रदर्शन में काफी संख्या में शामिल बैंक कर्मचारियों ने बताया कि सरकार की गलत नीतियों का खामियाजा बैंक कर्मचारियों के साथ साथ सामान्य जनता को भी भुगतना पड़ेगा। बैंक कर्मचारियों ने हड़ताल को अपरिहार्य बताते हुए कहा कि बैंकों का निजीकरण होने पर आगे चलकर इसका गलत असर पड़ेगा।

यह भी बताया गया कि बैंक कर्मचारी एसोसिएशन द्वारा जागो ग्राहक जागो पत्रिका का वितरण किया जाएगा। जिसमें बैंकों के निजीकरण से होने वाले नुकसान सहित सभी जानकारी विस्तार से देकर लोगों को जागरूक किया जाएगा। बैंक एसोसिएशन के पदाधिकारी ने कहा कि बैंकों को निजी हाथों मे सौंपे जाने को सिर्फ बैंक कर्मचारियों का ही नुकसान समझना बड़ी भूल साबित होगी, क्योंकि इसका सबसे ज्यादा दुष्प्रभाव सामान्य नागरिकों पर ही होगा।

Gyan Prakash Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned