दान में मिला दिल ओएनजीसी डायरेक्टर की धड़कन बना

वांसदा तहसील के राजेश के अंगदान से चार को मिली नई जिंदगी

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 06 Feb 2018, 09:16 PM IST

सूरत.

नवसारी जिले के एक ब्रेनडेड व्यक्ति के अंगदान से चार जनों को नई जिंदगी मिली है। उसके दिल ने सूरत से अहमदाबाद का 277 किमी का फासला दो घंटे में पूरा किया। वहां इसे ओएनजीसी के डायरेक्टर में ट्रांसप्लांट किया गया।


नवसारी जिले की वांसदा तहसील के उनाई हाउसिंग सोसायटी निवासी राजेश कुमार शिवप्रसाद गुप्ता (४२) डोलवण में ओम सांई एंटरप्राइजेज के नाम से फर्नीचर, बर्तन और इलेक्ट्रोनिक्स सामग्री की दुकान संभालता था। दो फरवरी को पदमडूंगरी से लौटते समय वह मोटर साइकिल फिसलने से गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसे व्यारा के अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां से देर रात उसे सूरत के मिशन अस्पताल लाया गया। सीटी स्कैन में दिमाग में रक्त गांठ की पुष्टि हुई। न्यूरो सर्जन डॉ. किरीट शाह ने क्रेन्योटॉमी कर दिमाग से गांठ दूर की, लेकिन उसकी हालत नहीं सुधरी। पांच फरवरी को उसे ब्रेनडेड घोषित कर दिया गया। डोनेट लाइफ के प्रमुख नीलेश मांडलेवाला ने उसके परिजनों को अंगदान के बारे में समझाया। सहमति मिलने पर उन्होंने आईकेडीआरसी की डॉ. प्रांजल मोदी से किडनी और लीवर दान, जबकि हृदय दान के लिए सिम्स अस्पताल, अहमदाबाद के डॉ. धवल नायक से सम्पर्क किया। आईकेडीआरसी के डॉ. विकास पटेल ने किडनी और लीवर का दान स्वीकार किया। हृदय दान अहमदाबाद के सिम्स अस्पताल के कार्डियेक सर्जन डॉ. धीरेन शाह ने स्वीकार किया। चक्षुओं का दान लोकदृष्टि चक्षुबैंक के डॉ. प्रफुल शिरोया ने स्वीकार किया। दान में मिला हृदय अहमदाबाद ओएनजीसी के डायरेक्टर विसम यादव (५८) में ट्रांसप्लांट किया गया। एक किडनी अहमदाबाद निवासी राकेश भाणाजी सदाव्रती (३८) और दूसरी अहमदाबाद निवासी कमलेश गोविंद परमार (२८) में ट्रांसप्लांट की गई। लीवर अहमदाबाद निवासी खुशल हरीश पटेल (३१) में ट्रांसप्लांट किया गया। राजेश अग्रहरी वैश्य समाज गुजरात का मंत्री रह चुका था।

 

सूरत से सत्रहवां हृदय दान

अहमदाबाद ओएनजीसी के डायरेक्टर विसम यादव चार साल से हृदय की तकलीफ से परेशान थे। उनका २०१६ में बायपास और वाल्व रिपेयर किया गया था। उनके हृदय की कार्य क्षमता दस से पंद्रह फीसदी रह गई थी। सूरत शहर से पिछले 26 महीने में हृदय दान का यह सत्रहवां मामला है। बारह हृदय मुम्बई, तीन अहमदाबाद, एक चेन्नई और एक इंदौर भेजा गया। अब तक डोनेट लाइफ द्वारा २४१ किडनी, ९७ लीवर, 6 पेन्क्रीयाज, १७ हृदय और २०४ चक्षुओं का दान करवाकर ५६२ जनों को नया जीवन दिया गया है।

 

दो घंटे में सूरत से अहमदाबाद पहुंचा दिल

५.३० बजे- मिशन अस्पताल में अहमदाबाद के चिकित्सक हृदय दान लेकर सूरत एयरपोर्ट रवाना।
५.४० बजे- चिकित्सकों की टीम सूरत एयरपोर्ट पहुंची।
५.५० बजे- सूरत एयरपोर्ट से चिकित्सकों की टीम चार्टर प्लेन में अहमदाबाद रवाना।
६.५१ बजे- टीम अहमदाबाद पहुंची।
७.०० बजे- अहमदाबाद एयरपोर्ट से टीम अस्पताल रवाना।
७.३० बजे- चिकित्सक अस्पताल पहुंचे, हृदय ट्रांसप्लांट शुरू किया।

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned