भागवत कथा में धूमधाम से मना श्रीकृष्ण जन्मोत्सव

डिंडोली क्षेत्र में आयोजन

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 27 Nov 2019, 08:28 PM IST

सूरत. शहर के डिंडोली में मिलेनियम पार्क के सामने उमर वैश्य परिवार की ओर से आयोजित श्रीमद्भागवत कथा ज्ञानयज्ञ के चौथे दिन बुधवार को श्रीकृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। भागवत कथा में भगवान के जन्मोत्सव के उपलक्ष में मंच को फूलों की माला और आकर्षक रोशनी से सजाया गया। भागवत कथा में श्रद्धालु बड़ी संख्या में मौजूद रहे।
कथावाचक चन्द्रांशु महाराज ने भगवान श्रीकृष्ण की जन्म कथा सुनाते हुए कहा कि बाल-गोपाल का जन्म देवकी और वासुदेव की आठवीं संतान के रूप में होता है। उन्होंने देवकी व वासुदेव का अर्थ समझाते हुए कहा कि देवकी याने जो देवताओं की होकर जीवन जीती है और वासुदेव का अर्थ है जिसमें देव तत्व का वास हो। ऐसे व्यक्ति अगर विपरीत परिस्थितियों की बेडिय़ों में भी क्यों न जकड़े हो, उन्हें भगवान को खोजने के लिए कहीं जाना नहीं पड़ता है। बल्कि भगवान स्वयं आकर उसकी सारी बेड़ी-हथकड़ी काटकर उसे संसार सागर से मुक्त करा दिया करते हैं। कथा के बीच में भगवान श्रीकृष्ण के बाल रूप की आकर्षक झांकी भी निकाली गई। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के मौके पर पेश किए गए भजनों पर श्रद्धालु झूमते रहे। इस अवसर पर आयोजक परिवार के रामप्रसाद, विमला देवी सहित अन्य ने श्रीभागवत भगवान की पूजा व आरती की। भागवत कथा का समापन शनिवार को होगा।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned