प्रशासनिक मीटिंगों में बड़े-बड़े दावे, मार्केट परिसर में हैंं फुस्स-फुस्स

मनपा प्रशासन गंभीरता से कपड़ा बाजार में दौरा करें तो कई टैक्सटाइल मार्केट करवा दें हाथों-हाथ बंद

 

By: Dinesh Bhardwaj

Updated: 26 Jun 2020, 09:31 PM IST

सूरत. इससे बड़ी बदइंतजामी क्या हो सकती है भला कि प्रशासन बार-बार आपको मीटिंगें में बुलाकर बार-बार कोविड-19 की गाइडलाइन की पालना की नसीहत देता रहें और आप उस नसीहत को इस कान से सुना और उस कान से निकालते रहो। ऐसा ही फिलहाल रिंगरोड कपड़ा बाजार में हो रहा है, जहां दो-ढाई किलोमीटर के दायरे में पौने दो सौ से ज्यादा टैक्सटाइल मार्केट इमारतों में 70 हजार से अधिक व्यापारिक प्रतिष्ठान हैं।
कोरोना संक्रमण के प्रसार के बारे में अब किसी से कुछ छिपा हुआ नहीं है और छोटा-बड़ा हर एक जानता है कि इस महामारी के किस तरह से लोग चपेट में आते हैं और वे यह भी जानने लग गए हैं कि इससे किस तरह से बचा जा सकता है। मगर लगता है कपड़ा बाजार में अभी इसके बारे में और अधिक जानकारी दिए जाने की आवश्यकता है। तभी तो यहां मार्केट के प्रवेशद्वार पर ही ऐसी-ऐसी बदइंतजामी है तो भला परिसर में क्या इंतजाम होंगे, यह यूं ही विचार किया जा सकता है। पत्रिका टीम शुक्रवार को रिंगरोड कपड़ा बाजार में कोविड-19 की गाइडलाइन की पालना की टोह लेने निकली और उसे मार्केट के प्रवेशद्वार पर ही पोलमपोल दिखी।


एसएमसी शोपिंग सेंटर


सहारा दरवाजा के निकट इस मार्केट परिसर में दर्जनों ट्रेवल्स ऑफिस और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान है। सुबह 11 बजकर 45 मिनट पर मार्केट के दोनों दरवाजे खुले हैं और यहां कोविड-19 गाइडलाइन के मुताबिक सुरक्षाकर्मी समेत सेनेटाइजर, थर्मल गन आदि का अभाव देखने को मिला।


सुराणा इंटरनेशनल मार्केट


दो मिनट बाद जैसे रिंगरोड कपड़ा बाजार में सुराणा इंटरनेशनल मार्केट के सामने पहुंचते हैं तो वहां नीम के पेड़ की छाया में बुजुर्ग गार्ड सुस्ताता दिखता है। उसके पास सेनेटाइजर वगैरह तो नहीं पर पानी की बोटल अवश्य नजर आती है।


जश टैक्सटाइल मार्केट


सुराणा इंटरनेशनल मार्केट से थोड़ा सा आगे ही जश टैक्सटाइल मार्केट है और यहां प्रशासनिक मीटिंगें अटेंड करने में सक्रिय फोग्वा अध्यक्ष समेत अन्य कई प्रमुख व्यापारियों के प्रतिष्ठान है। यहां पर दोनों दरवाजों से वाहनों व लोगों का प्रवेश सुचारू है और दरवाजे पर टेम्प्रेचर जांच, सेनेटाइज व्यवस्था का अभाव दिखता है।


रेशमवाला मार्केट


कुरियर प्रतिष्ठान, बैंक, एटीएम सेंटर जैसे लोगों की आवा-जाही का केंद्र रेशमवाला मार्केट के रिंगरोड पर तीन दरवाजे हैं, उनमें से बीच वाला थोड़ा बंद है और शेष दोनों से लोगों व वाहनों का आना-जाना हो रहा है। बुजुर्ग सुरक्षाकर्मी की मौजदूगी में लोग थर्मल गन से जांच व हाथों को सेनेटाइज किए बगैर एटीएम, बैंक व मार्केट परिसर में पहुंचते सुबह 11 बजकर 52 मिनट पर दिखाई दिए।


जेजे टैक्सटाइल मार्केट


कपड़ा व्यापारियों के संगठन फोस्टा का ऑफिस इसी मार्केट में है और यहीं से प्रशासनिक मीटिंगों के बाद फोस्टा पदाधिकारी कोविड-19 की गाइडलाइन फॉलो करने की नसीहत समूचे कपड़ा बाजार के व्यापारियों को देते हैं। लेकिन, यहां भी बदइंतजामी के हाल थे। रिंगरोड पर तीन और श्रीसालासर हनुमान मार्ग पर दो बड़े दरवाजे हैं। दोपहर 12 बजकर एक मिनट पर यहां पहुंचने पर मुख्यद्वार के पास थर्मलगन से जांच व सेनेटाइजर व्यवस्था तो दिखी, लेकिन यह भी देखने को मिला कि कोई कहीं से भी बगैर रोक-टोक आ और जा सकता है। वहीं, पिछले दरवाजे पर बुजुर्ग सुरक्षाकर्मी तैनात है।


यहां दुरुस्त इंतजाम


दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर रिंगरोड कपड़ा बाजार में सूरत टैक्सटाइल मार्केट में देखने को मिला कि प्रवेश के एक ही मुख्यद्वार के पास सेनेटाइज टनल तो काम नहीं कर रही थी, लेकिन वहां तैनात सुरक्षाकर्मी बगैर थर्मल गन से टेम्प्रेचर जांच व सेनेटाइज किए लोगों को आगे नहीं जाने देते थेे। यहां प्रवेश के बाद निकासी का मार्ग दूसरा ही है, जहां से व्यापारी व अन्य लोग बाहर निकल सकते हैं।


मिलेनियम टैक्सटाइल मार्केट


दोपहर 12 बजकर 17 मिनट पर मिलेनियम टैक्सटाइल मार्केट पहुंचने पर यहां प्रवेशद्वार पर दो सुरक्षाकर्मी थर्मल गन से व्यापारियों व लोगों का टेम्प्रेचर जांच कर ही अंदर भेजते दिखे। इसके अलावा बाहर निकलने वाले व्यक्ति को भी मुख्यद्वार के बजाय दूसरे रास्ते से जाने का अनुरोध करते नजर आए।

अभिषेक टैक्सटाइल मार्केट


दोपहर एक बजकर 55 मिनट पर श्रीसालासर हनुमान मार्ग पर अभिषेक टैक्सटाइल मार्केट पहुंचने के बाद यहां द्वार पर थर्मल गन से आने वालों की जांच तो होती दिखी, लेकिन यहां भी सोशल डिस्टेंस व मास्क का अभाव देखने को मिला। मार्केट परिसर के पैसेज में पास-पास बैठे एक साथ चार जने बॉक्स फॉल्डिंग करते दिखे। शौचालय में भी बार-बार सफाई नहीं होने की शिकायत लोगों से मिली।


मोटी बेगमवाड़ी कपड़ा बाजार


इस क्षेत्र में एक-दो नहीं बल्कि तीन दर्जन से भी ज्यादा टैक्सटाइल मार्केट इमारतें है। यहां की हजारों रिटेल काउंटर दुकानों पर खरीदारी के लिए लोगों की भीड़ रहती है और भीड़ में आशंका के अनुरूप ही शुक्रवार दोपहर दो बजे के बाद पहुंचने पर यहां सामाजिक दूरी का अभाव भी देखने को मिला। लोगों के चेहरों पर मास्क भी लगे तो नहीं लगे हाल में दिखाई दिए। हालांकि मार्केट के मुख्यद्वार पर सेनेटाइजर, थर्मल गन से टेम्प्रेचर जांच अवश्य होती दिखी।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned