BLACKMAIL : फोटो वायरल करने की धमकी देकर सहपाठी ने किया ब्लैकमेल

BLACKMAIL : फोटो वायरल करने की धमकी देकर सहपाठी ने किया ब्लैकमेल
BLACKMAIL : फोटो वायरल करने की धमकी देकर सहपाठी ने किया ब्लैकमेल

Divyesh Kumar Sondarva | Updated: 12 Oct 2019, 10:02:02 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

- एनएसयूआई में जुडऩे का आरोप लगाकर लॉ के विद्यार्थी ने मांगे एक लाख
- मामला पहुंचा थाने, दोनों ही विद्यार्थी एबीवीपी कार्यकर्ता

सूरत.
शहर के उमरा थाने में दर्ज हुआ ब्लैकमेलिंग का एक मामला चर्चा में आया है। अठवा लाइंस स्थित वी.टी.चौकसी लॉ कॉलेज में साथ में पढऩे वाले विद्यार्थी ने ही फोटो वायरल करने की धमकी देकर मित्र को ब्लैकमेल करना शुरू किया। ब्लैकमेङ्क्षलग से त्रस्त होकर विद्यार्थी ने अपने साथी मित्र के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज करवाया है। फरियाद करने वाला और आरोपी दोनों ही एबीवीपी संगठन से बताए जा रहे है।


वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय संबद्ध महाविद्यालयों में हाल ही छात्रसंघ चुनाव पूर्ण हुए। दोनों संगठनों की ओर से विभिन्न कॉलेज में बने जीएस (महासचिव) को स्वयं के संगठन का सदस्य बताकर वीएनएसजीयू में दबदबा बनाने का प्रयास कर रहे हंै। इस बीच शनिवार को उमरा थाने में दर्ज हुए ब्लैकमेलिंग के मामले ने सबका ध्यान खींचा है। वी.टी. चौकसी लॉ कॉलेज के थर्ड इयर में पढ़ रहे विद्यार्थी एस.पी. राठौड़ ने अपने ही सहपाठी यतीन ढाकेचा पर ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है।

एस.पी. राठौड़ ने आरोप लगाया है कि 7 अक्टूबर को कॉलेज परिसर में उनके गले में मजाक-मजाक में एनएसयूआई का दुपट्टा डाला और फोटो खींच लिया गया। इसके बाद इस फोटो को उसने यतीन ने वाट्सऐप पर भेजकर एक लाख रुपए मांगे। रुपए नहीं देने पर एनएसयूआई में जुड़े होने का बताकर फोटो वायरल करने की धमकी दी। पहले तो यतीन ने इस मैसेज को मजाक में लिया। फिर जब संगठन में मैसेज वायरल करने की धमकी दी गई तब उमरा थाने में शिकायत दर्ज करवाई गई।

ELECTION : पुलिस के पहरे में हुए छात्रसंघ चुनाव..!

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned