यात्रियों से टिकट दर से अधिक लेना बुकिंग क्लर्को को पड़ा भारी

जनरल टिकट बुकिंग कार्यालय के दो क्लर्क पर विजिलेंस ने बनाया केस

पूर्व की ओर दो खिडक़ी की जांच में मिले क्रमश: 90 और 280 रुपए अधिक

सूरत.

रेलवे स्टेशन की करंट टिकट बुकिंग कार्यालय के दो बुकिंग क्लर्क पर यात्रियों से तय जनरल टिकट दर से अधिक रुपए वसूलने का मामला दर्ज हुआ है। मुम्बई रेल मंडल से बुधवार रात को आए विजिलेंस अधिकारियों ने सूरत स्टेशन के पूर्व की ओर करंट टिकट बुकिंग कार्यालय पर जांच की। इसमें दो बुकिंग क्लर्क के पास बेची गई टिकट दर से 90 रु तथा 280 रुपए अधिक मिले।

दीपावली अवकाश में सूरत से बाहर जाने वाले यात्रियों की संख्या बहुत अधिक होती है। कन्फर्म टिकट नहीं लेने वाले यात्री जनरल टिकट लेकर द्वितीय श्रेणी शयनयान में रसीद बनाकर सफर करने को मजबूर होते हैेे। अवकाश के सीजन में बुकिंग क्लर्को की ओर से अधिक रुपयों की वसूली से इनकार नहीं किया जा सकता है।


सूत्रों के अनुसार मुम्बई रेल मंडल विजिलेंस विभाग के अधिकारी मनोज यादव और सौरभ मसेकर को सूरत के करंट टिकट बुकिंग कार्यालय में चल रही गड़बड़ी की जानकारी मिली थी। मनोज तथा सौरभ ने बुधवार रात सूरत पहुंच गए और देर रात को स्टेशन बिल्डिंग के पूर्व की ओर दो जनरल टिकट खिडक़ी की जांच की। इसमें खिडक़ी नं.14 पर नियुक्त बुकिंग क्लर्क द्वारा बेची गई जनरल टिकट तथा मौजूद कैश का मिलान किया। इसमें विजिलंस अधिकारियों को 14 नं. खिडक़ी से 90 रुपए अधिक मिले।

इसके बाद विजिलंस विभाग ने खिडक़ी नं.15 पर बैठे बुकिंग क्लर्क का भी कैश मिलान किया। उसके क्लर्क के पास बेची गई जनरल टिकट से 280 रुपए अधिक मिले। विजिलेंस अधिकारियों ने दोनों बुकिंग क्लर्क के खिलाफ केस दर्ज करकिया है। उल्लेखनीय है कि राजस्थान पत्रिका ने पिछले साल भी दीपावली के सीजन के दौरान सूरत करंट टिकट बुकिंग क्लर्को के द्वारा की जाने वाली वसूली की खबर प्रकाशित की थी। खबर प्रकाशन के बाद रेलवे ने एक साथ दस बुकिंग क्लर्को के निलंबन की कार्रवाई की थी।

Sanjeev Kumar Singh
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned