Causeway overflow खतरे का निशान पार, ओवरफ्लो हुआ कोजवे

मनपा प्रशासन ने शनिवार को बंद कर दिए थे गेट, ऊपरी क्षेत्र और तापी के कैचमेंट एरिया में पानी छोडऩे से बनी स्थिति

By: विनीत शर्मा

Published: 10 Aug 2020, 07:15 PM IST

सूरत. उकाई से लगातार पानी छोड़े जाने के कारण कोजवे पर तापी ने खतरे का निशान पार कर लिया है। बांध से पानी छोडऩे के दौरान ओवरफ्लो की आशंका को देखते हुए मनपा प्रशासन ने शनिवार को ही यातायात के लिए इसे बंद कर दिया था।

ऊपरी क्षेत्र और उकाई बांध के कैचमेंट एरिया में हो रही बारिश के कारण उकाई बांध में इनफ्लो बढ़ गया है। उकाई के कैचमेंट एरिया और ऊपरी क्षेत्र में हो रही बारिश के कारण बांध में फिलहाल 14 सौ क्यूसेक से ज्यादा पानी आ रहा है। बांध का रूल लेवल 329.43 फीट है और इसे बनाए रखने के लिए बांध प्रशासन बीते तीन दिनों से करीब एक हजार क्यूसेक पानी तापी में छोड़ रहा है। इस कारण सूरत के सिंगणपोर में बने वीयर कम कोजवे पर तापी खतरे के निशान को पार कर गई है। कोजवे की क्षमता छह मीटर है, और उकाई से लगातार पानी छोड़े जाने के कारण कोजवे पर पानी की चादर चलने लगी है।

बांध प्रशासन ने जैसे ही तापी में छोडऩा शुरू किया, मनपा प्रशासन स्थिति पर नजर रखे हुए था। कोजवे पर छह मीटर का स्तर आते ही शनिवार को इसे यातायात के लिए बंद कर दिया गया था। कोजवे ओवर फ्लो होने के बाद डाउन स्ट्रीम में भी नदी में पानी दिखने लगा है। कोजवे बनने के बाद आम दिनों में समुद्र की भरती का पानी ही नदी में आता है। डाउन स्ट्रीम में नदी का पानी मानसून के दौरान ही दिखता है, जिसका लोगों को सालभर इंतजरा रहता है।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned