सूरती उद्यमियों को ओडिशा में निवेश का न्योता

सूरती उद्यमियों को ओडिशा में निवेश का न्योता

Pradeep Devmani Mishra | Publish: Sep, 02 2018 10:08:31 PM (IST) Surat, Gujarat, India

मिलेगी हर संभव मदद-धर्मेन्द्र प्रधान-

टैक्सटाइल और प्लास्टिक उद्योग में अपार संभावनाएं

सूरत

इंडियन ऑयल कंपनी की ओर से सूरत में रविवार को आयोजित टैक्सटाइल एंड प्लास्टिक इन्वेस्टर्स कॉन्क्लेव में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने सूरत के उद्यमियों को ओडिशा में टैक्सटाइल और प्लास्टिक उद्योग में निवेश करने का न्योता दिया। उद्योगों के विकास के लिए सरकार की ओर से हर संभव मदद देने का आश्वासन भी दिया।
एक होटल में आयोजित कॉन्क्लेव के दौरान पेट्रोलियम मंत्री प्रधान ने निवेशकों को संबोधित करते हुए कहा कि देश का विकास पश्चिम और दक्षिण में दिखता है, लेकिन पूर्व के राज्यों का विकास होना बाकी है। इनके विकास के बिना सब कुछ अधूरा है। ओडिशा में पॉलिन प्रोपलीन के दो महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट तैयार हो रहे हैं, जो दिसंबर तक पूरे हो जाएंगे। इन प्रोजेक्ट में कपड़े बनाने के लिए आवश्यक कच्चे माल तैयार होंगे। ऐसे में सूरत के उद्यमियों के लिए वहां आकर उद्योग शुरू करना सरल हो जाएगा। वहां आने वाले उद्यमियों को हरसंभव मदद दी जाएगी। इसके अलावा वहां पर प्लास्टिक उद्योग में भी संभावनाएं हैं। वहां निवेश करने वालों के लिए बहुत बड़ा बाजार मिलेगा। ओडिशा में हैंडलूम उद्योग है। यदि सूरत के कपड़ा निवेशक वहां निवेश करते हैं तो यहां के आधुनिक उद्योग और हैंडलूम उद्योग को एक दूसरे का साथ मिलेगा। ओडिशा सूरत की दूसरी कहानी बनाने की पूरी क्षमता रखता है। उन्होंने कहा कि ओडिशा में कोयला उपलब्ध होने के कारण बिजली पर्याप्त है। आगामी दिनों में 19 जिलों में गैस की आपूर्ति भी पूर्ण कर दी जाएगी।
पारादीप पोर्ट महत्वपूर्ण साबित होगा
पूर्वाेत्तर के राज्यों में पॉलिएस्टर कपड़ों की खपत ज्यादा है। इसलिए उद्यमियों के पास बड़ा बाजार भी उपलब्ध है। सूरत से बनने वाले कपड़े पूर्व के राज्यों तक जाते हैं यदि ओडिशा में भी उद्योग हो तो परिवहन खर्च भी कम होगा, जो कि उद्यमी का लाभ साबित होगा। वहां का पारादीप पोर्ट कपड़ों के आयात-निर्यात के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा। एकाध साल में ही व्यापार की दृष्टि से वह देश का नंबर-1 बंदरगाह साबित होगा। ओडिशा के भद्रक जिला में टैक्सटाइल पार्क बनाने की योजना है। यह 234 एकड़ में बनेगा। यहां पॉलिएस्टर फाइबर से एपरेल पार्क बनेगा। यहां पर उद्यमियों को कई सुविधाएं मिलेंगी। ओडिशा के गंजाम जिले के कई लोग सूरत में कपड़ा उद्योग में काम करते हैं। गुजरात सरकार उन्हें यहां पर रहने की सुविधा, बिजली की सुविधा और पानी की सुविधा देती है। इसके लिए आभार जताया और सूरत के उद्यमियों को भी श्रमिकों के भी विकास में कुछ हिस्सा देने का आग्रह किया। इस अवसर पर उपस्थित गृह राज्यमंत्री प्रदीप सिंह जाड़ेजा ने कहा कि सूरत में टैक्सटाइल उद्योग का विकास होना गुजरात के लिए गर्व की बात है और इस कारण कई लोगों को रोजगार मिला है। कॉन्क्लेव के दौरान इंडियन ऑयल कंपनी के कई अधिकारी उपस्थित रहे।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned