सिगरेट आयात करने वाली पार्टी का पता फर्जी मिला

कस्टम विभाग को गलत जानकारी देकर सिगरेट आयात करने वाली भुज की पार्टी का पता फर्जी निकला। डीआरआई विभाग ने शुक्रवार को हजीरा स्थित अदाणी पोर्ट से जब्त किए कन्टेनरों की जांच की तो उसमें से 24.50 करोड़ रुपए के इम्पोर्टेड सिगरेट मिले थे।

By: विनीत शर्मा

Published: 29 Mar 2015, 09:57 PM IST

सूरत. डीआरआई विभाग ने कस्टम विभाग को गलत जानकारी देकर सिगरेट आयात करने वाली भुज की पार्टी के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। डीआरआई विभाग के अधिकारियों ने दस्तावेजों पर बताए गए पते पर जाकर जांच की, लेकिन वहां कोई पार्टी नहीं मिली। डीआरआई विभाग ने इससे पहले शुक्रवार को हजीरा स्थित अदाणी पोर्ट से जब्त किए कन्टेनरों में इम्पोर्टेड सिगरेट मिले थे। दो दिन चली कार्रवाई के दौरान विभाग ने कुल मिलाकर 24.50 करोड़ रुपए की इम्पोर्टेड सिगरेट जब्तकर आयातक के खिलाफ कार्रवाई शुरू की थी।
डीआरआई विभाग के सूत्रों के अनुसार विभाग की टीम ने शुक्रवार और शनिवार को दुबई से आयात किए गए कन्टेनरों की शक के आधार पर जांच की थी। आयातकों ने इनमें पेपर वेस्ट तथा प्लास्टिक वेस्ट होने की जानकारी कस्टम विभाग को दी थी, लेकिन जांच में चार कन्टेनरों में लगभग 2600 कार्टून में 24.50 करोड़ रुपए की इम्पोर्टेड सिगरेट मिली थीं। सिगरेट प्लास्टिक की बैग के पीछे छुपाकर लाई गई थीं। सिगरेट वापी के वलवाडा स्थित आइसीडी में क्लीयरिंग के लिए जाने वाली थीं। जांच के दौरान पता चला कि आयात करने वाली कंपनी का नाम पेरामाउन्ट है और यह भुज की है। अधिकारी भुज गए। वहां ऐसी कोई कंपनी नहीं मिली। अधिकारियों ने अब नई दिशा में जांच शुरू की है।

यह था मामला
गौरतलब है कि विभाग ने गुरुवार को अदाणी पोर्ट पर दुबई से आ रहे छह कन्टेनर को रोककर जांच शुरू की थी। जिसमें से दो में पेपर वेस्ट निकले थे, जबकि अन्य दो में इन्पोर्टेड सिगरेट भरे थे। इनकी कीमत लगभग 10 करोड़ रुपए थी। शनिवार को जांच के दौरान बाकी दो कन्टेनरों से भी सिगरेट बरामद हुए। जांच से बचने के लिए कन्टेनर के आगे के हिस्से में प्लास्टिक वेस्ट रखा जाता था और पीछे के हिस्से में सिगरेट रखते थे। विभाग ने जांच के दौरान 20 टन प्लास्टिक वेस्ट भी पकड़ा।  इसके अलावा 2600 कार्टून में लगभग तीन करोड़ सिगरेट मिली थीं। विभाग ने कुल 24.50 करोड रुपए की सिगरेट तथा 90 लाख रुपए का प्लास्टिक वेस्ट जब्त कर जांच शुरू की थी। सिगरेट पर लगभग 70 फीसदी आयात ड्यूटी लगती है। शनिवार को जब्त की गई सारी सिगरेट अलग-अलग फ्लेवर में निकली। इन पर भी भारी ड्यूटी चुकानी पड़ती है, लेकिन आयातक गलत जानकारी देकर ड्यूटी चोरी कर रहे थे।

Show More
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned