कोरोना ऐसे बना आत्महत्या की वजह

कोरोना का असर-लॉकडाउन के कारण आसन्न आर्थिक संकट को देख किश्त न भर पाने के डर से महिला ने जान दी, कोरोना इफेक्ट के कारण आत्महत्या का देशभर में संभवतया यह पहला मामला

By: विनीत शर्मा

Published: 27 Mar 2020, 08:32 PM IST

बारडोली. कोरोना ने अब लोगों के दिलो-दिमाग पर भी अपना असर डालना शुरू कर दिया है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लागू किए लॉकडाउन ने एक महिला के दिमाग पर इस तरह असर डाला कि उसने आत्महत्या कर ली। लॉकडाउन के कारण आसन्न आर्थिक संकट को देख किश्त न चुका पाने के डर और काम न होने से आर्थिक तंगी के कारण उसने जान दे दी। अब तक किसानों के आत्महत्या की खबरें तो हम सुनते रहे हैं, लेकिन कोरोना इफेक्ट के कारण आत्महत्या का देशभर में संभवतया यह पहला मामला है।

जब एक ओर देश-दुनिया कोरोना के संक्रमण से जा रही जानों को बचाने की कवायद में जुटा है, इस बीमारी ने लोगों को मानसिक स्तर पर तोडऩा शुरू कर दिया है। कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन का असर गरीब और मध्यम वर्ग के परिवारों पर पडऩे लगा है। गुरुवार सूरत जिला की ओपलाड तहसील के देलाड गांव निवासी मनीषा संजय राठौड़ (27) ने घर में ही गले फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पति ने पुलिस को दी जानकारी में बताया कि दोनों मजदूरी कर रहे थे। लॉकडाउन के कारण काम बंद है। लोन पर खरीदी बाइक की किश्त भरने की चिंता सताने लगी है। साथ ही आगामी दिनों में बच्चे के मुंडन संस्कार के लिए पैसो की जरूरत थी और कहीं से व्यवस्था नहीं होने के कारण मनीषा कुछ दिनों से टेंशन में थी। इसी वजह से उसने आत्महत्या कर ली।

Show More
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned