केबल ब्रिज का उद्घाटन करने पहुंचे पार्षद काछडिय़ा को लिया हिरासत में

केबल ब्रिज के लोकार्पण को लेकर सियासत शुरू हो गई है। 48 घंटे में ब्रिज के लोकार्पण की तारीख की घोषणा करने का अल्टीमेट देने के बाद...

By: मुकेश शर्मा

Updated: 12 Oct 2018, 11:28 PM IST

सूरत।केबल ब्रिज के लोकार्पण को लेकर सियासत शुरू हो गई है। 48 घंटे में ब्रिज के लोकार्पण की तारीख की घोषणा करने का अल्टीमेट देने के बाद कांग्रेस पार्षद दिनेश काछडिय़ा सोमवार शाम पांच बजे केबल ब्रिज का लोकार्पण करने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। इससे पहले दोपहर ब्रिज के दोनों छोर पर पुलिस तैनात कर दी गई।

सूरत मनपा की ओर से तापी नदी पर केबल ब्रिज का निर्माण किया गया है। करीब आठ साल बाद ब्रिज तैयार हो चुका है और लोकार्पण का इंतजार है। मनपा और शासक पक्ष की ओर से लोकार्पण की तारीख की घोषणा नहीं की गई है। कांग्रेस पार्षद काछडिय़ा ने जनता की परेशानी नहीं समझने और अपने आकाओं को खुश करने के लिए ब्रिज का लोकार्पण नहीं करने का आरोप लगाते हुए चेतावनी दी थी कि यदि 48 घंटे में लोकार्पण की तारीख की घोषणा नहीं की जाती है तो वह खुद ब्रिज का उद्घाटन कर देंगे।

सोमवार शाम पांच बजे 48 घंटे का वक्त पूरा होने वाला था। इससे पहले सोमवार दोपहर बारह बजे ब्रिज के दोनों छोर पर पुलिस तैनात कर दी गई। शाम पांच बजे दिनेश काछडिय़ा उद्घाटन करने केबल ब्रिज पर पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। उन्हें उमरा थाने ले जाया गया। कांग्रेस पार्षद को हिरासत में लिए जाने की खबर फैलने के बाद थाने पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का जमावड़ा हो गया।

आरबीआइ के सहायक प्रबंधक की अग्रिम जमानत अर्जी मंजूर

पत्नी को प्रताडि़त करने के आरोप से घिरे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के सहायक प्रबंधक अनिकेत डाभी और उनके परिवार के सदस्यों की अग्रिम जमानत याचिका सेशन कोर्ट ने मंजूर कर ली।
पालनपुर जकातनाका की शांतम रेजिडेंसी निवासी हेमाली परमार ने अनिकेत डाभी, ससुर विनु डाभी, सास साबिना, ननद अर्पिता मेकवान, ननदोई स्टीफन मेकवान के खिलाफ प्रताडऩा का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है। अनिकेत और उसकी यह दूसरी शादी है।

उनकी एक पुत्री है। आरोप के मुताबिक जब वह गर्भवती हुई और गर्भ परीक्षण में पता चला की गर्भ में बच्ची है तो पति, सास-ससुर और ननद-ननदोई ने उसे प्रताडि़त करना शुरू कर दिया। दूसरा बच्चा नहीं होने देंगे, यह कहते हुए ननद के बेटे को गोद लेने के लिए दबाव बनाया। हेमाली ने ससुराल के लोगों पर धर्म परिवर्तन करने के लिए प्राताडि़त करने का भी आरोप लगाया है। मामला दर्ज होने के बाद गिरफ्तारी से बचने के लिए अनिकेत और उसके परिजनों ने अधिवक्ता नरेश गोहिल के जरिए कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। याचिका पर अंतिम सुनवाई के बाद कोर्ट ने सभी अभियुक्तों की अग्रिम जमानत याचिका मंजूर कर ली।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned