कोविड-19 : प्रभावित क्षेत्रों में डिसइन्फेक्शन पर जोर

रविवार को दो सोसायटियों को किया सेनेटाइज

By: विनीत शर्मा

Published: 05 Apr 2020, 05:50 PM IST

सूरत. कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए मनपा प्रशासन का पूरा फोकस वरीयता के आधार पर प्रभावित क्षेत्रों को सबसे पहले डिसइन्फेक्ट करने पर है। कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आने के बाद मनपा टीम ने रविवार को शहर में दो अलग-अलग जगहों पर प्रभावित इलाकों को सेनेटाइज किया।

देशभर में लॉकडाउन के बाद मनपा टीम का पूरा फोकस किसी भी तरह कोरोना संक्रमण के तीसरे चक्र में प्रवेश को बाधित करने पर है। कोरोना के सामुदायिक प्रसार की संभावनाओं को क्षीण करने के लिए मनपा प्रशासन एहतियातन शहर में अस्पतालों व अन्य जगहों के साथ ही लोगों की अधिक आवाजाही वाले इलाकों को सेनेटाइज कर डिसइन्फेक्ट कर रहा है। इसके साथ ही उन इलाकों को वरीयता के आधार पर सेनेटाइज किया जा रहा है, जहां से कोरोना के पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसका मकसद कोरोना संक्रमण को वहीं खत्म करना है, जिससे कि अन्य लोगों में इसके प्रसार को रोका जा सके।

शहर में कोरोना के नए मरीजों की पुष्टि के बाद मनपा प्रशासन ने रविवार को उन दो सोसायटियों को भी सेनेटाइज कर डिसइन्फेक्ट किया। मनपा टीम पाल में नक्षत्र प्लेटिनम बिल्डिंग पहुंची और पूरी सोसायटी को सेनेटाइज कर डिसइन्फेक्ट किया। यहां रह रहे एक संदिग्ध की रिपोर्ट में कोरोना की पुष्टि हुई है। जिसके बाद यह निर्णय किया गया। इसके अलावा झापा बाजार के हाथी फलिया में कोरोना पीडि़त एक मरीज के सामने आने के बाद वहां भी पूरे इलाके को सेनेटाइज किया गया। इस क्षेत्र को मास क्वारन्टाइन करते हुए पूरे विस्तार में आवाजाही को प्रतिबंधित कर दिया गया है। इससे पहले मनपा प्रशासन ने रांदेर में भी एक पाजिटिव केस सामने आने के बाद पूरे इलाके को मास क्वारन्टाइन किया था, जिसके अब तक सकारात्मक परिणाम देखने को मिले हैं।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned