Gujarat/ सीमेंट और स्टील की कीमतों में कृत्रिम बढ़ोतरी पर क्रेडाई का विरोध

राज्य में निर्माणाधीन साइट रहेगी बंद, देंगे 200 से अधिक ज्ञापन

By: Sandip Kumar N Pateel

Published: 12 Feb 2021, 01:03 AM IST

सूरत। सीमेंट और स्टील उत्पादक कंपनियों की ओर से कार्टेल कर कीमतों में कृत्रिम बढ़ोतरी का आरोप लगाते हुए रियल स्टेट की बड़ी संस्था ने विरोध करने का तय किया है। क्रेड़ाई शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन कर बढ़ी हुई कीमतें वापस लेने की मांग करेगी। संस्था की ओर से राज्य भर में रियल स्टेट से जुड़े सभी बिल्डर और सीधे या अन्य तरीके से जुड़े भवन निर्माता और सामग्री उत्पादक राज्य भर में सभी निर्माणाधीन साइट पर कामकाज ठप रखेंगे। इसके साथ ही राज्य में सभी जिला कलेक्टरों को ज्ञापन सौंप कर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

कन्फेडरेशन ऑफ रियल एस्टेट डेवलपर एसोसिएशन ऑफ इंडिया सूरत की ओर से गुरुवार को पत्रकार वार्ता का आयोजन किया गया। इसमें क्रेडाई के अध्यक्ष रवजी पटेल ने बताया कि सीमेंट और स्टील उत्पादक कंपनियां पिछले समय से कार्टेल कर बार-बार कीमतों में बढ़ोतरी कर रही है। जिसका सीधा असर इमारतों की यूनिट कॉस्ट पर हो रहा है। इस बढ़ोतरी से मकानों की कीमत 15 से 20 फीसदी बढ़ोतरी होगी। एक ओर कोविड19 के कारण रियल एस्टेट उद्योग मंदी से गुजर रहा था। अब हालात कुछ हद तक सामान्य हुए तो सीमेंट और स्टील उत्पादक कंपनियां कार्टेल कर लगातार कीमतें बढ़ा रही हैं। जिससे एक बार फिर रियल एस्टेट उद्योग मुश्किल में पड़ गया है। उन्होंने इसका सीधा असर मकान खरीदने वालों पर पड़ने की बात कही। जबकि लॉकडाउन से पहले वैसे ही नोटबंदी, जीएसटी तथा अन्य कारणों से रियल एस्टेट में मंदी चल रही थी। ऐसे में लॉक डाउन लग गया और हिंदी में रियल एस्टेट कारोबार ठप सा हो गया था। अब जब कोरोना कम हो रहा है और उद्योग धंधे पटरी पर आने लगे हैं तो कृत्रिम रूप से बढ़ाई गई सीमेंट और स्टील की कीमतों से रियल स्टेट उबर नहीं पाएगा।


पटेल ने बताया कंपनियों की इस तरह की नीतियों के खिलाफ सरकार से भी शिकायत की गई हैं, लेकिन अब तक कंपनियों के रवैए में कोई फर्क नहीं पड़ रहा है, जिससे क्रेडाई ने कंपनियों के खिलाफ आंदोलन करने का तय किया है। रणनीति के तहत शुक्रवार को क्रेडाई के सभी चैप्टर और सदस्य एक दिन के लिए कामकाज बंद रखेंगे और राज्यभर में जिला कलेक्टरों को ज्ञापन सौंपा जाएगा। इसके बाद भी कीमतें कम नहीं होती हैं तो आगामी दिनों में आंदोलन और तेज किया जाएगा।

Sandip Kumar N Pateel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned