समिति की अंग्रेजी माध्यम स्कूल में दाखिले के लिए उमड़ी भीड़

-एक ही दिन में 800 से अधिक आवेदन

By: Divyesh Kumar Sondarva

Published: 07 Jun 2018, 12:44 PM IST

सूरत.

नगर प्राथमिक शिक्षा समिति की अंग्रेजी माध्यम स्कूल में प्रवेश के लिए बुधवार को अभिभावकों की भीड़ उमड़ पड़ी। एक ही दिन में 800 से अधिक आवेदन भरे गए।
अपने बच्चों को अंग्रेजी माध्यम में प्रवेश दिलाने के लिए अभिभावक सुबह से लंबी कतार में खड़े नजर आए। सूरत महानगर पालिका संचालित नगर प्राथमिक शिक्षा समिति में सात भाषाओं में शिक्षा दी जाती है। कुछ साल से समिति ने अंग्रेजी माध्यम में भी शिक्षा देना शुरू किया है। पहले अंग्रेजी माध्यम में प्रवेश लेने वालों की संख्या कम थी, लेकिन अब प्रवेश लेने वाले बढ़ रहे हैं। इसका मुख्य कारण निजी स्कूलों की बढ़ती फीस बताया जा रहा है। बुधवार को गोड़ादरा के नगर प्राथमिक शिक्षा समिति शाला क्रमांक 342 में अंग्रेजी माध्यम की प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई। आसपास के क्षेत्रों मे नगर प्राथमिक शिक्षा समिति में अंग्रेजी माध्यम शुरू करने का प्रचार प्रसार किया गया था। बुधवार को अभिभावकों की भीड़ स्कूल में उमड़ पड़ी। कक्षा 1 के लिए 250, कक्षा 2 के लिए 100, कक्षा 3 के लिए 100, कक्षा 4 के लिए 50, कक्षा 5 के लिए 45, कक्षा 6 के लिए 50, कक्षा 7 के लिए 25 और कक्षा 8 के लिए 25 विद्यार्थियों के आवेदन भरे गए। स्कूल की क्षमता 1500 विद्यार्थियों की है। भीड़ उमडऩे की एक वजह यह भी है कि समिति स्कूलों में शिक्षा, किताबें और गणवेश नि:शुल्क हैं। निजी स्कूलों की फीस आसमान छू रही है। अंग्रेजी माध्यम की फीस अन्य माध्यमों से अधिक होती है। स्कूलों की फीस पर नियंत्रण के लिए एफआरसी की नियुक्ति की गई है, लेकिन शहर की स्कूलों की फीस का विवाद अभी तक नहीं सुलझा है। अभिभावकों पर फीस का बोझ बढ़ता जा रहा है।

शिक्षक कम, विद्यार्थी ज्यादा
नगर प्राथमिक शिक्षा समिति की अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में शिक्षकों की कमी चिंताजनक है। शिक्षकों की कमी के कारण हर साल समिति स्कूलों में प्रवेश लेने वाले कम हो जाते हैं। समिति ने शहर के अलग-अलग विस्तारों नानपुरा, सिटीलाइट, वेडरोड, करंज, उधना और लिंबायत में अंग्रेजी माध्यम के स्कूल शुरू किए। अब गोड़ादरा विस्तार में भी अंग्रेजी माध्यम स्कूल शुरू किया गया है। समिति की सभी अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 50 से 655 तक है, लेकिन इन स्कूलों में शिक्षक सिर्फ छह हैं। नानपुरा में 57 विद्यार्थियों के बीच एक, सिटीलाइट में 99 विद्यार्थियों के बीच एक, वेडरोड में 124 विद्यार्थियों के बीच एक, करंज में 72 विद्यार्थियों के बीच एक, उधना में 312 विद्यार्थियों के बीच तीन और लिंबायत में 655 विद्यार्थियों के बीच छह शिक्षक हैं। यानी समिति की अंग्रेजी माध्यम की स्कूलों में 100 विद्यार्थियों के बीच एक शिक्षक है। विद्यार्थियों के मुकाबले शिक्षकों की कम संख्या का असर पढ़ाई पर पड़ रहा है। जानकार मानते हैं कि शिक्षकों की संख्या की यही हालत रही तो आने वाले दिनों में अंग्रेजी माध्यम में प्रवेश लेने वालों की संख्या घट सकती है। अन्य माध्यमों की तरह अंग्रेजी माध्यम में भी ड्रॉप आउट रेशियो बढ़ सकता है।

अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में विद्यार्थी और शिक्षक
क्षेत्र शाला क्रमांक विद्यार्थी शिक्षक
नानपुरा 20 57 01
सिटीलाइट 160 99 01
वेडरोड 180 124 01
करंज 271 72 01
उधना 326 312 03
लिंबायत 323 655 06

Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned