दादर-बीकानेर एक्सप्रेस में बूटलेगरों से झगड़ा, यात्रियों ने तीन जगह ट्रेन रोकी

अतुल स्टेशन पर 25 मिनट और वलसाड में 35 मिनट खड़ी रही, सात बूटलेगर गिरफ्तार

सूरत.

दादर-बीकानेर एक्सप्रेस में रविवार शाम वापी स्टेशन से सात-आठ बूटलेगर चढ़ गए। यात्रियों से किसी बात को लेकर विवाद होने पर एक बूटलेगर ने धारदार हथियार से अपना हाथ काट लिया। इसको लेकर यात्रियों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन को अलग-अलग जगह रोका। यात्रियों के हंगामे के कारण अतुल स्टेशन पर ट्रेन 25 मिनट और वलसाड स्टेशन पर 35 मिनट खड़ी रही।

गुजरात में नशाबंदी के बावजूद बड़ी मात्रा में अंग्रेजी शराब की खेप महाराष्ट्र तथा दमण से लाई जाती है। सूरत रेलवे एलसीबी पुलिस ने शनिवार को दो बूटलेगरों को गिरफ्तार किया था। इसमें से एक को पासा के तहत भावनगर जेल भेजा गया है। 12490 दादर-बीकानेर एक्सप्रेस प्रत्येक बुधवार और रविवार को दादर से दोपहर 2.35 बजे रवाना होकर बोरीवली दोपहर 3.03, वापी शाम 4.49 और सूरत 6.18 बजे पहुंचती है, लेकिन रविवार को इस ट्रेन में बूटलेगरों और यात्रियों के बीच झगड़ा हो गया। गुस्साए यात्रियों ने बार-बार चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोक दिया।

सूत्रों ने बताया कि वापी स्टेशन से ट्रेन जैसे ही रवाना होने लगी, कुछ यात्रियों ने चेन पुलिंग कर इसे रोक दिया। रेलवे सुरक्षा बल और रेलवे पुलिस के जवान मौके पर पहुंचे। यात्रियों ने रेलवे के ट्विटर हैंडल पर बूटलेगरों की दादागीरी की शिकायत की थी। एक बूटलेगर ने यात्रियों को डराने के लिए धारदार हथियार निकाल लिया और अपने शरीर पर वार किया। इससे यात्रियों में दहशत का माहौल हो गया। यात्रियों ने ट्रेन की जांच की मांग करते हुए लहूलुहान बूटलेगर को गिरफ्तार करने की मांग की। रेलवे सुरक्षा बल और रेलवे पुलिस ने पूरी ट्रेन की जांच की, लेकिन कोई संदिग्ध नहीं मिला। बाद में सुरक्षा बल के जवान ट्रेन में सवार हो गए। वापी से ट्रेन रवाना हुई तो अतुल स्टेशन के पास फिर यात्रियों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन रोक दी। करीब 25 मिनट तक यह अतुल स्टेशन पर खड़ी रही।

वलसाड स्टेशन के पास भी यात्रियों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोक दिया। यहां ट्रेन से पकड़ी गई तीन महिला बूटलेगरों को उतारा गया। वलसाड स्टेशन पर ट्रेन करीब 35 मिनट खड़ी रही। सूरत पहुंचने पर रेलवे सुरक्षा बल और रेलवे पुलिस ने फिर ट्रेन की जांच की। इस दौरान चार महिला बूटलेगरों को गिरफ्तार किया गया। इनके पास करीब 18 हजार सात सौ रुपए की शराब बरामद हुई। उल्लेखनीय है कि दादर-बीकानेर एक्सप्रेस वापी से रवाना होने के बाद सीधे सूरत स्टेशन पर ठहरती है, लेकिन रविवार को यात्रियों तथा बूटलेगरों के बीच लड़ाई के कारण यह डेढ़ घंटे देर से सूरत पहुंची।


टिकट चेकिंग स्टाफ नहीं मिलने से गुस्साए यात्री

सूरत में भी यात्रियों में बूटलेगरों का खौफ था। उन्होंने रेलवे प्रशासन से सुरक्षा की मांग की। रेलवे सुरक्षा बल निरीक्षक ईश्वर सिंह यादव ने एएसआइ मानसिंह को दो जवानों के साथ वडोदरा तक भेजा। यात्रियों ने बताया कि ट्रेन में कोई कॉमर्शियल स्टाफ नहीं था। ट्रेन मुम्बई से रवाना होकर वापी, वलसाड तक आ गई, लेकिन टिकट चेकिंग स्टाफ नहीं आया। बूटलेगरों से हुए झगड़े के बाद भी टीटीइ नहीं मिला, जिसे लेकर यात्रियों में गुस्सा था।


यह बूटलेगर हुए गिरफ्तार

सूरत रेलवे पुलिस ने बताया कि दादर-एक्सप्रेस से चार महिला बूटलेगरों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें लिम्बायत प्रतापनगर लाल बिल्डिंग निवासी रुखसाना अफवान अंसारी (40), अमरोली बंबागेट एसएमसी आवास निवासी चंद्रिका महेन्द्र आंबलिया (20), वराछा लंबे हनुमान रोड पाटी चाल निवासी रेखा मनीष देवीपूजक (42) और जागृति पवन पटेल (24) शामिल हैं। इससे पहले वलसाड स्टेशन पर तीन महिला बूटलेगरों सूरत सहारा दरवाजा निवासी मनीषा विकास यादव (22), सहारा दरवाजा झोपड़पट्टी निवासी किरण सनी तिवरी (20) और वलसाड कैलाश रोड शेठियानगर निवासी गीता रघुविर राजपूत (30) को गिरफ्तार किया गया।

Sanjeev Kumar Singh
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned