बस की सीट के नीचे छिपकर आए मूक-बघिर को सूरत में मिली सुनने की शक्ति

- चाचा के फटकार लगाने पर घर से निकला था, रोते हुए बस सीट के नीचे सो गया और महाराष्ट्र से सूरत पहुंच गया

 

By: Dinesh M Trivedi

Published: 15 Oct 2021, 12:58 AM IST

दिनेश एम.त्रिवेदी.

सूरत. महाराष्ट्र के खामगांव से बस की सीट के नीचे छिपकर सूरत आए श्रमिक परिवार के मूक-बघिर को किशोर को शहर पुलिस ने ना सिर्फ उसके परिजनों से मिलवाया, बल्कि समाज सुरक्षा विभाग व समाजसेवियों की मदद से उसे सुनने की मशीन समेत जरूरत की चीजें भी मुहैया करवाई।

जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र के खामगांव के एक बेहद गरीब परिवार का मूक- बघिर किशोर बुधवार सुबह निजी बस से सूरत पहुंच गया। सुबह बस खाली होने के बाद क्लीनर देखा तो वह सीट के नीचे सो रहा था।उससे पूछताछ करना चाही, लेकिन मूक बघिर बच्चा कुछ बता नहीं पाया। उसने उसे बस से उतार दिया। फिर अनजान शहर में रोते हुए वह भटक रहा था।

सर्कल पांच के ट्रैफिक पुलिस इंस्पेक्टर एचवी गोटी को वह मिला। गोटी ने मूक बघिर संस्था के संयोजक पियूष शाह की मदद ली। मूक-बधिर स्कूल के शिक्षकों की मदद से उससे पूछताछ की और समाज सुरक्षा विभाग के अधिकारियों को भी खबर की। इशारों से हुई पूछताछ में पता चला कि वह खामगांव का रहने वाला है। वहां मूक-बघिर शाला में पढ़ता था, लेकिन पिछले दो वर्षो से शाला बंद थी।

दिहाड़ी मजूदरी करने वाले उसके पिता के पास मोबाइल भी नहीं था। वह टीवी देखने के लिए अपने चाचा के घर जाता था। चाचा ने उसे फटकार लगाई तो वह रोते हुए उनके घर से निकल गया। सडक़ पर खड़ी के निजी बस की सीट के नीचे छिप कर सो गया और सूरत पहुंच गया। उसके परिजनों का पता लगाने के लिए पुलिस ने खामगांव पुलिस को संपर्क कर परिवार को खबर की।

सिविल में उसकी मेडिकल जांच करवाई तो पता चला कि वह 20 से 30 फीसदी तक सुन सकता है। मशीन की मदद से उसकी सुनने की क्षमता ठीक हो सकती है। फिर समाज सुरक्षा विभाग द्वारा मशीन की व्यवस्था की गई।

समाजसेवी मंजूलता व गोटी समेत अन्य पुलिसकर्मियों ने उसे जरूरत की वस्तुएं उपलब्ध करवाई। गुरुवार को उसके पिता के सूरत पहुंचने पर शहर पुलिस आयुक्त अजय तोमर ने पिता कौ सौंपा। पुलिसकर्मियों ने उसके बस से लौटने की व्यवस्था भी की।
---------------------------

Patrika
Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned