SURAT NEWS: संसद में गूंजी किसानों को मुआवजा देने की मांग

SURAT NEWS: संसद में गूंजी किसानों को मुआवजा देने की मांग

Sunil Mishra | Updated: 11 Jul 2019, 10:26:58 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

वलसाड सांसद डॉ. केसी पटेल ने मुद्दा उठाया

वांसदा. वलसाड-डांग सांसद डॉ. केसी पटेल ने लोकसभा में आम की फसल को हुए नुकसान का मुआवजा किसानों को देने की मांग संसद में उठाई है। सांसद केसी पटेल ने बताया कि वलसाड-डांग और नवसारी में आम की उपज सबसे ज्यादा होती है। वहीं, बीते दो वर्षों में मौसम की मार से आम को बहुत नुकसान हुआ है। उन्होंने उल्लेख किया कि वर्ष 2015-16 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वलसाड -डांग और नवसारी जिले के किसानों को मुआवजे के रूप में 12 करोड़ रुपए आवंटित करवाए थे। यह रुपए नुकसान का मार झेलने वाले किसानों के खाते में सीधे ट्रांसफर हुए थे। इस वर्ष भी किसानों को आम की फसल बर्बाद होने से बहुत नुकसान हुआ है। उन्होंने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों को मुआवजा देने की मांग की। सांसद द्वारा किसानों के लिए मुआवजा देने की मांग करने से क्षेत्र के किसानों को उम्मीद बंधी है। मालूम हो कि इससे पहले संसद सत्र में केसी पटेल ने जिले में पानी की समस्या का मुद्दा भी उठाया था और वलसाड एवं डांग में सौ इंच से ज्यादा बरसात के बाद भी गर्मी में पानी की समस्या को गंभीर बताया था।

 

patrika

दानह,दमण-दीव विलय का किया विरोध
सिलवासा. आदिवासी एकता परिषद के नेता और दानह कांग्रेस कमेटी सदस्य प्रभुभाई टोकिया ने कहा कि दादरा नगर हवेली तथा दमण-दीव को एक संघ प्रदेश नहीं बनने दिया जाएगा। इसे विरोध में आदिवासी एकता परिषद आंदोलन पर उतर सकता है। दानह और दमण-दीव पुर्तगीज समय से स्वतंत्र प्रदेश हैं, जिसका विलय नहीं किया जा सकता है। दादरा नगर हवेली आदिवासी बाहुल्य प्रदेश है, यहां की जनता पर यह अन्याय सहन नहीं है।
पिछले एक सप्ताह से दानह,दमण-दीव को एक संघ प्रदेश बनाए जाने की चर्चा चल रही है। दोनों संघ प्रदेश एक होने से सरकारी कर्मचारियों का तबादला एक दूसरे यूटी में संभव हो सकेगा। दोनों प्रदेशों को भारत सरकार से मिलने वाला फंड एक मिलेगा। इससे दानह को नुकसान हो सकता है। इसे गंभीरता से लेकर आदिवासी एकता परिषद ने विरोध करना शुरू कर दिया है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned