टफ योजना के 300 करोड़ रुपए की सब्सिडी जल्दी देने की मांग

कोई छोटी भूल हो तब भी फाइल रोक ली जाती है

By: Pradeep Mishra

Published: 03 Jan 2019, 09:05 PM IST

सूरत
फैडरेशन ऑफ गुजरात वीवर्स एसोसिएशन ने वस्त्रमंत्री को पत्र लिखकर टफ योजना के लिए वीवर्स ने भेजे 1500 फाइलों का निकाल कर 300 करोड़ रुपए जल्दी घोषित करने की मांग की है।
्रफोगवा ने टैक्सटाइल मंत्री स्मृती ईरानी को बताया है कि सूरत के कई वीवर्स ने ए-टफ और आर-आर टफ योजना में सब्सिडी के लिए 1500 वीवर्स ने तीन सौ फाइलें रखी है, लेकिन अभी तक इन पर कोई फैसला नहीं आने के कारण वीवर्स परेशान हो गए हैं। कई वीवर्स जिन्होंने कि मशीनें आयात की हैं और उन्हें बैंक का लोन चुकाना है उनकी हालत और पतली हो गई है। फोगवा का कहना है कि टैक्सटाइल कमिश्नर के कार्यालय में वीवर्स टफ सब्सिडी के लिए जो फाइल भेजते हैं उनमें यदि इन-वॉइस में मशीन नंबर नहीं लिखा गया हो, इनवॉइस में सिरियल नंबर नहीं लिखा गया हो या अन्य कोई छोटी भूल हो तब भी फाइल रोक ली जाती है। इतना ही नहीं यदि कोई मशीन इम्पोर्ट की हो और उसकी सब्सिडी लेने के लिए की गई अर्जी पर बाद की तारीख लिखी गई हो तब भी फाइल रोक ली जाती है। केन्द्र सरकार ने आर-आर टफ स्कीम बंद कर उसके बदले ए-टफ स्कीम योजना शुरू की है और आर-आर टफ योजना में जिन लोगों को टफ सब्सिडी की फाइल पेन्डिंग थी उन्हें ए-टफ स्कीम में लाभ लेने को कहा गया था, लेकिन टेक्साइटस कमिश्नर के कार्यालय में आर-आर टफ योजना की मशीनों का समावेश ए-टफ योजना में नही किया गया। ऐसा बताकर इनकार कर दे रहे हैं। इसलिए वीवर्स हित ध्यान में रख इन फाइलों का जल्दी निपटारा किया जाए।

27 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की
आयकर विभाग ने वर्तमान वित्तीय वर्ष में टैक्स नहीं चुकाने वाले करदाताओं के खिलाफ कार्रवाई की शुरूआत की है। आयकर विभाग के रिकवरी अधिकारी ने पांच साल पुराने मामले में एक बिल्डर और कपड़ा व्यापारी के यहां कार्रवाई करते हुए उनकी 27 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की है। इन दोनों को आयकर विभाग की ओर से बार बार नोटिस देने पर भी वह जवाब नहीं दे रहे थे।

Pradeep Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned