हादसे के बाद फिर उठी एयरपोर्ट से पाइपलाइन हटाने की मांग

सूरत एयरपोर्ट एक्शन कमेटी ने फिर शुरू किया चिट्ठियां लिखने का सिलसिला

By: विनीत शर्मा

Published: 24 Sep 2020, 09:15 PM IST

सूरत. ओएनजीसी आग हादसे के बाद मुम्बई शोर से आ रही पाइपलाइन को लेकर सवाल फिर उठने लगे हैं। सूरत एयरपोर्ट से गुजर रही पाइपलाइन को हटाने की मांग की है।

मुम्बई हाइ से आ रही ओएनजीसी की 240 किमी लंबी गैस पाइपलाइन सूरत एयर पोर्ट पर रनवे से डुमस की ओर 460 मीटर अंतर से गुजरती है। इस लाइन में 65 किग्रा प्रति सेमी के प्रेशर से गैस प्लांट में पहुंचती है। रनवे पर लैंड करते समय प्लेन ओवर फुट होकर रनवे से आगे पांच सौ मीटर तक निकल गया तो यह जमीन के नीचे से गुजर रही पाइपलाइन के ऊपर पहुंच जाएगा। एयरपोर्ट पर यह पाइपलाइन जमीन से दो फीट नीचे भी नहीं है। जानकारों के मुताबिक 35 साल पुरानी यह पाइपलाइन इस स्थिति में नहीं है कि हवाई जहाज का 70 टन वजन झेल पाए।

सूरत एयरपोर्ट एक्शन कमेटी के संजय इजावा ने मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन, मिनिस्ट्री ऑफ पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस, चेयरमैन ओएनजीसी, पीएम मोदी, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया और जिला कलक्टर को पत्र लिखकर एक बार फिर पाइपलाइन को एयरपोर्ट से हटाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि यदि कभी प्लेन ओवरफुट होकर पाइपलाइन तक पहुंच गया तो हादसा ज्यादा भयावह होगा। संजय ने कहा कि एयरपोर्ट एक्शन कमेटी ने एयरपोर्ट के विस्तार के लिए लाइन पर पहले भी कलवर्ट बनाने की मांग की थी।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned