Distillery plant शुगर फेक्टरी के डिस्टलरी प्लांट का आसपास के गावों पर होगा असर

पर्यावरणीय असर को समझने की कवायद, जन सुनवाई में सुने गए सभी पक्ष

By: विनीत शर्मा

Updated: 12 Feb 2021, 05:57 PM IST

बारडोली. खेदुत सहकारी खांड उद्योग मंडली लिमिटेड (बारडोली शुगर फेक्टरी) का डिस्टलरी प्लांट प्रस्तावित है। शुक्रवार को हुई जनसुनवाई में इसके पर्यावरणीय असर को समझने के साथ ही लोगों का पक्ष जाना। इस प्लांट का असर आसपास के दस किमी के क्षेत्र में पड़ेगा।

शुगर फेक्टरी अपना डिस्टलरी प्लांट शुरू करने जा रही है। स परियोजना के शुरू होने से पहले पर्यावरणीय मंजूरी जरूरी है। इसे लेकर गुजरात प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने शुक्रवार को सूरत-धूलिया रोड पर स्थित सूरत जिला लेउवा पाटीदार समाज सांस्कृतिक भवन में जनसुनवाई का आयोजन किया था। कलक्टर डॉ. धवल पटेल की अध्यक्षता में आयोजित जनसुनवाई में परियोजना के कंसलटेंट ने परियोजना से पर्यावरण पर होने वाले असर और उसे नियंत्रित करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों की जानकारी दी।

इस प्रोजेक्ट का असर आसपास के दस किमी के गांवों पर पड़ेगा, इसलिए प्रभावित गांवों के लोगों को भी जनसुनवाई में बुलाया गया था। उनके साथ शुगर फेक्टरी के सदस्य और अन्य लोगों ने सभी संभावित स्थितियों और मसलों पर चर्चा की। अन्य कोई शिकायत नहीं आने पर कलक्टर ने सुनवाई की कार्रवाई पूर्ण होने का एलान किया।

गौरतलब है कि यह प्लांट शुगर फेक्टरी परिसर में स्थित 46 हजार 720 वर्ग मीटर जमीन में स्थापित किया जाएगा। इसमें से 15 हजार 417.55 वर्ग मीटर जमीन में ग्रीन बेल्ट और बाकी की जमीन प्लांट और प्लांट से जुड़ी अन्य सुविधाओं के लिए आवंटित की जाएगी।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned