दिवाली बाद शुरू होगा गर्डर चढ़ाने का काम

उधना रेलवे स्टेशन के समीप अहमदाबाद-मुंबई मेन लाइन और सूरत-भुसावल लाइन पर निर्माणाधीन रेलवे ओवर ब्रिज के काम में जल्द ही तेजी आएगी। लिंबायत साइड के करी

By: मुकेश शर्मा

Published: 18 Aug 2017, 10:13 PM IST

सूरत।उधना रेलवे स्टेशन के समीप अहमदाबाद-मुंबई मेन लाइन और सूरत-भुसावल लाइन पर निर्माणाधीन रेलवे ओवर ब्रिज के काम में जल्द ही तेजी आएगी। लिंबायत साइड के करीब 20-25 प्लॉट्स का संपादन बाकी होने से यह काम अटका हुआ है। प्रशासन प्लॉट मालिकों से बातचीत कर रास्ता निकालने में जुटा है। रेलवे के हिस्से में काम शुरू करने की दोबारा अनुमति मांगी गई है।

उधना और लिंबायत को जोड़ते गरनाले के समीप ट्रैफिक समस्या दूर करने के लिए रेलवे ओवर ब्रिज का काम करीब दो साल पहले शुरू हुआ था। मनपा पहले यहां फोर लेन ब्रिज बनाने की योजना पर काम कर रही थी, लेकिन इससे 80 से सौ मकान प्रभावित हो रहे थे। मनपा ने बीच का रास्ता निकालते हुए प्रस्तावित ब्रिज को चार लेन से टू लेन किया और टेंडर मंजूर कर काम शुरू करा दिया। इससे प्रभावित मकानों की संख्या आधी रह गई।

अब 20-25 प्लॉट मालिकों से वार्ता कर मनपा कोई हल निकालने की जुगत में है। इसके साथ ही रेलवे के हिस्से के काम को भी शीघ्र शुरू करने का प्रयास किया जा रहा है। मनपा ने रेलवे के हिस्से के काम के लिए कुछ महीने पहले अनुमति मांगते हुए पूरी डिजाइन के साथ प्रस्ताव भेजा था। रेलवे ने मनपा की डिजाइन में कुछ बदलाव करते हुए दोबारा प्रस्ताव मांगे थे। मनपा ने नए प्रस्ताव के साथ रेलवे से दोबारा अनुमति मांगी है। रेलवे के हिस्से के लिए मनपा ने गर्डर आदि बनाने का काम पूरा कर इसे चढ़ाने के लिए तैयार रखा है। ब्रिज सेल के अधिकारी के अनुसार दिवाली तक मंजूरी मिलने की उम्मीद है, जिसके बाद गर्डर चढ़ाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

उधना रेलवे स्टेशन के समीप अहमदाबाद-मुंबई मेन लाइन और सूरत-भुसावल लाइन पर रेलवे कल्वर्ट संख्या 437 पर ब्रिज का काम चल रहा है। ब्रिज पूरा होने से लिंबायत और उधना को जोडऩे वाले गरनाले में ट्रैफिक तथा जल-जमाव से होने वाली परेशानी दूर हो जाएगी। दो साल पहले जब मनपा ने टेंडर मंजूर किए, उस समय लिंबायत साइड के मकानों के मसले का हल बाकी था। मनपा ने वहां के निवासियों से बातचीत की कोशिश शुरू की तो अपनी मांगों को पूरा नहीं होता देख लोगों ने कोर्ट में याचिका दायर कर दी।

इससे उधना साइड का काम तो चलता रहा, लेकिन लिंबायत साइड का थोड़ा भी काम नहीं हो पाया। अब जब उधना साइड का काम अंतिम चरण में है, मनपा ने क्षेत्र के निवासियों से बातचीत कर हल ढूंढने की प्रक्रिया तेज की है। पिछले दिनों डिप्टी कमिश्नर जीवन पटेल और ब्रिज सेल के अधिकारियों के साथ वार्ता में कुछ मुद्दों पर सहमति बनती नजर आई।

मुआवजे की पेशकश

मनपा ने ओवर ब्रिज के रास्ते में आ रहे प्लॉट्स के मालिकों को जमीन का मुआवजा, एलआईजी आवासों में प्राथमिकता और दुकानदारों को दुकानों के एवज में वेटिंग लिस्ट में पहला स्थान देने का वादा किया है। हालांकि अभी तक लोगों ने सहमति नहीं दी है। प्रशासन उन्हें मनाने की कोशिश में जुटा है, जिससे रेलवे के हिस्से का काम पूरा होने के साथ ही दूसरी ओर भी काम शुरू हो जाए।

29 करोड़ खर्च होंगे

रेलवे स्टेशन की ओर ओवर ब्रिज की लंबाई करीब 50 मीटर होगी। दो लेन के इस ब्रिज की चौड़ाई करीब 11 मीटर और कैरेज-वे की चौड़ाई साढ़े सात मीटर होगी। ब्रिज का रेलवे पार्ट करीब सात सौ मीटर का होगा। ब्रिज की लंबाई उधना स्टेशन के बाहर रोड नंबर जीरो गोपाल होटल से दूसरी ओर शनिदेव मंदिर तक होगी। इसके निर्माण पर करीब 29 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned