छात्रों को आत्महत्या से रोकने के लिए सरकार ने उठाया यह कदम, जानिए क्या है मामला

- परीक्षा तो पड़ाव है, समग्र जीवन नहीं

सूरत.

गुजरात माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियों में बोर्ड परीक्षा का तनाव दूर करने के लिए अनोखा प्रयास शुरू किया है। बोर्ड ने सभी विद्यालयों को आदेश दिया है कि वह 10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों के अभिभावकों को पत्र लिखें। पत्र का फोरमेट भी जारी किया गया है। इसमें लिखा गया है कि परीक्षा मात्र एक पड़ाव है, समग्र जीवन नहीं। परीक्षा के माध्यम से जीवन का पूर्ण मूल्यांकन नहीं हो सकता। सभी विद्यार्थी एक जैसी बुद्धि के नहीं होते। सबकी अलग-अलग रुचि होती है। बच्चों को प्रफुल्लित मन से परीक्षा में हिस्सा लेना चाहिए। अभिभावकों को बच्चों को परीक्षा का तनाव नहीं देना चाहिए।


बोर्ड परीक्षा को लेकर विद्यार्थी तनाव में रहते हैं तो अभिभावक चिंता से घिरे रहते हैं। विद्यार्थियों और अभिभावकों को तनाव के बचाने के लिए बोर्ड हर साल हेल्पलाइन शुरू करता है। स्कूलों में विद्यार्थियों और अभिभावकों के लिए काउंसिलिंग का आयोजन भी किया जाता है। मार्च 2020 में होने वाली परीक्षा के लिए बोर्ड ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। विद्यार्थियों के परीक्षा फॉर्म भरे जाने लगे हैं।

विद्यार्थियों और अभिभावकों को परीक्षा के तनाव से बचाने के लिए बोर्ड ने सभी विद्यालयों को अभिभावकों को संबोधित करते हुए पत्र लिखने का आदेश दिया है। पत्र में लिखा गया है कि मात्र डॉक्टरी, इंजीनियरिंग, आइएएस और आइआइटी के विद्यार्थी ही सुखी जीवन जीते हैं, यह मानना उचित नहीं है। कला, संगीत, अभिनय, समाज सेवा, खेल के क्षेत्र में भी जीवन संवारने के अवसर मिलते हैं। परीक्षा के दौरान डर का वातावरण बनाए बिना विद्यार्थी को प्रेम से इसमें हिस्सा लेने के लिए पे्ररित करना चाहिए। सभी विद्यालयों को इस तरह का पत्र दिसम्बर के अंत तक भेजने का आदेश दिया गया है। बोर्ड ने विद्यालयों से इसकी रिपोर्ट भी मांगी है।

Show More
Divyesh Kumar Sondarva
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned