Accident : ट्रैक्टर पर गन्ने की ओवरलोडिंग भी हादसे के लिए जिम्मेदार

- डंपर व ट्रैक्टर के चालकों व मालिकों समेत चार गिरफ्तार...

- बेकाबू डंपर ने फूटपाथ पर सो रहे 20 जनों को कुचला,15 की मौत
- सूरत के कीम-मांडवी रोड पर कीम चौराहे के निकट हुआ हादसा

- Four arrested, including drivers and owners of dumpers and tractors ...

- Accident near Kim intersection on Kim-Mandvi road in Surat

- Sugarcane overloading on tractor is also responsible for the accident

 

By: Dinesh M Trivedi

Published: 21 Jan 2021, 12:02 PM IST

सूरत. कीम चौराहे के निकट 15 प्रवासी श्रमिकों को काल का ग्रास बनाने खौफनाक हादसे के लिए कोसंबा पुलिस ने डंपर व टैक्टर के चालकों व मालिकों समेत चार जनों को गिरफ्तार किया है। मंगलवार रात ही पुलिस स्मीमेर अस्पताल में भर्ती डंपर चालक पुनालाल श्रीराम केवट (24) निवासी चित्रंगी, सिधी, मध्यप्रदेश व खलासी सुदामा रामजी यादव (24) को कोसंबा ले गई।

READ MORE : सूरत के पास खौफनाक हादसे में 15 श्रमिकों की मौत

उनसे पूछताछ के बाद बुधवार को पुनालाल को गिरफ्तार किया है। वहीं, सुदामा को पुलिस ने सरकारी गवाह बनाया है। पुलिस ने हादसे के लिए डंपर के मालिक और जिस ट्रैक्टर से डंपर रगड ख़ाते हुए टकराया था, उस डंपर के मालिक सूरत के वराछा शिवदर्शन सोसायटी निवासी मनीष रोकड़ व ट्रैक्टर चालक तापी जिले के ईटवाई गांव निवासी रमेश पाडवी (30), मालिक उमरपाडा देवरुपण गांव निवासी कोटेसिंह वसावा (35) को गिरफ्तार किया है।

Accident : ट्रैक्टर पर गन्ने की ओवरलोडिंग भी हादसे के लिए जिम्मेदार

पुलिस सूत्रों का कहना हैं कि हादसे के लिए डंपर चालक के साथ साथ ट्रैक्टर पर की गई गन्ने की ओवर लोडिंग भी जिम्मेदार है। ट्रैक्टर ट्रोली की साइज से करीब तीन-चार फीट बाहर तक बाहर तक गन्ने की लोडिंग की गई थी।

READ MORE : Accident : बेकाबू डंपर ने फूटपाथ पर सो रहे 21 जनों को कुचला,15 की मौत

डंपर इसी गन्ने की ओवर लोडिंग से टकराया था। उसके बाद बेकाबू होकर फुटपाथ पर चढ़ा और श्रमिकों को रौंदते हुए पीछे दुकानों से टकरा कर रुका था। बहरहाल, पुलिस चारों आरोपियों से घटना के बारे में पूछताछ कर रही है।

सिस्टम के और भी कई लोग जिम्मेदार :


खौफनाक हादसे के लिए सिर्फ डंपर व ट्रैक्टर के चालक और मालिक ही जिम्मेदार नहीं, बल्कि सिस्टम के और भी कई लोग जिम्मेदार हैं। क्योंकि कीम-मांडवी रोड के निर्माण और रखरखाव में सुरक्षा नियमों की अनदेखी की गई थी।

READ MORE : Accident : तबाह हो गई कई घरों की खुशियां..

सडक़ के बीच कोई डिवाइडर भी नहीं था और इतना व्यस्त मार्ग होने के बावजूद फुटपाथ के लिए कोई सुरक्षा रैलिंग भी नहीं थी। वर्षो से श्रमिक वहां बेफिक्र होकर सौ रहे थे, लेकिन प्रशासन द्वारा कभी सुध नहीं ली गई। समय की मांग है कि जिम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

चार जनों को गिरफ्तार किया :


डंपर व ट्रैक्टर के चालकों व मालिकों समेत चार जनों को गिरफ्तार किया गया है। अभी मामले की जांच जारी है। जिनकी भूमिका सामने आएगी उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
- उषा राड़ा (पुलिस अधीक्षक, सूरत ग्रामिण)

पत्रिका व्यू :


बाहर तक निकले सामान वाले ओवरलोड वाहन हर जगह खतरा

हाईवे हो या शहर के बीच की सड़क या फिर गांव की पगडंडियां। हर जगह ओवरलोड वाहन खुद के लिए और दूसरों के लिए दुर्घटना का कारण होते हैं। आमतौर पर हर जगह देखने में आता है कि कपास, मूंगफली, गेहूं, गन्ना, चारा, भूसा या कोई भी अन्य समान, जो वजन में हल्का होने से ट्रक ट्रैक्टर के बॉडी से दोनों तरफ बाहर की ओर फुले हुए भरे रहते हैं। भाड़ा बचाने के लिए क्षमता से अधिक भरे हुए वाहन पास से गुजरने वाले दूसरे वाहनों से टकराने के लिए हमेशा ही खतरे का सबब बने रहते हैं।

READ MORE : मौत से दो इंच की दूरी : सिर के पास से गुजरा था डम्पर का पहिया

ताजा हादसे की बात की जाए या रात्रि में होने वाले अन्य हादसों में भी सड़क पर पर्याप्त प्रकाश नहीं होने से केवल हेडलाइट के कारण क्षमता से अधिक भरे हुए वाहनों के बाहर फूला हुआ भाग आसानी से दिखाई नहीं देता, क्योंकि सामने से आता वाहन केवल हेडलाइट के अंदाज से ही वाहन की चौड़ाई का अनुमान लगाकर गुजरता है।

ऐसे में किसी भी ट्रक में ऊपर तक या आसपास बाहर तक निकला हुआ हिस्सा हमेशा खतरे का सबब रहता है। अतः आरटीओ तथा पुलिसकर्मियों को भी इसे संज्ञान में लेकर सिर्फ दस्तावेज के आधार पर ही वसूली नहीं करे, बल्कि इस बड़े खतरे पर भी कार्रवाई करना चाहिए। जिससे दुर्घटना और मौतों को टाला जा सके।

Show More
Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned