शारदीय नवरात्र: मंदिरों व सोसायटियों में हवन, अनुष्ठान

दुर्गाष्टमी मनाई

By: Gyan Prakash Sharma

Updated: 14 Oct 2021, 12:31 AM IST

सिलवासा. नवरात्रि की दुर्गाष्टमी पर मंदिर व सोसायटियों में पूजा अर्चना, आरती आदि विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम आयोजित हुए। गायत्री मंदिर में समूह में पूजन, हवन, दुर्गा पाठ व महाआरती की गई। भवानी मंदिर में जाप अनुष्ठान व हवनादि संपन्न हुए। श्रद्धालुओं ने जरुरतमंदों को प्रसाद व सफेद वस्त्र दान किए।


शारदीय नवरात्र में दुर्गा अष्टमी का विशेष महत्व है। देवी के आठवें स्वरूप महागौरी स्वरूप मलिन और शिव की अर्धांगिनी की अनिष्ठ टालने के लिए पूजा की जाती है। सोसायटियों में आयोजकों ने मां की प्रतिमा के सामने धूप, दीप, अगरबत्ती, हल्दी, केसर, कुमकुम से रंगे चावल, इलायची, लौंग, काजू, पिस्ता, बादाम, गुलाब के फूल, चारौली, नारियल, गंगा जल, काले चने और घी का प्रसाद चढ़ाकर स्त्रोत पाठ, यज्ञ-हवन व अनुष्ठान किया। मां के भक्तों ने करुणा व दयादेवी का उच्चारण करते हुए बारी बारी से आहूति प्रदान की। पंचायत मार्केट नवरात्र महोत्सव में अष्टमी पर विशेष पूजा के बाद के मां के दर्शनों के लिए श्रद्धालु पहुंचे।
गांवों में भी अष्टमी पर आदिशक्ति की पूजा विधि विधान से हुई। बिन्द्राबीन गायत्री मंदिर में पूजा-अर्चना व हवन के बाद भक्तों को तिलक लगाकर प्रसाद वितरित किया।


खेलैयों का जोश परवान पर


सोसायटियों में गरबा खेलने के लिए खेलैयों का जोश परवान पर पहुंच गया है। आमली, किलवणी नाका, इन्दिरा नगर, बहुमाली, सुन्दरवन, टोकरखाड़ा की सोसायटियों में 9 बजे के बाद खेलौयों के साथ दर्शकों की भीड़ लग जाती है। नवरात्र महोत्सव में फुर्तीले एवं प्रतिभावन खेलैयों को आयोजक उपहार देकर सम्मान करते हैं।

Gyan Prakash Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned