एम्ब्रॉयडरी के श्रमिकों से लिया जाएगा पहचान पत्र

भाग्योदय इंडस्ट्रियल सोसायटी में एम्ब्रॉयडरी संचालकों की मीटिंग

Pradeep Devmani Mishra

September, 1209:21 PM

सूरत

एक महीने से हर रविवार एम्ब्रॉयडरी यूनिट में श्रमिकों की तोडफ़ोड़ और हड़ताल को लेकर चिंतित एम्ब्रॉयडरी यूनिट संचालकों की मीटिंग का दौर जारी है। बुधवार को भाग्योदय इंडस्ट्रियल सोसायटी में एम्ब्रॉयडरी संचालकों की मीटिंग हुई, जिसमें एम्ब्रॉयडरी यूनिट में काम करने वालों से पहचान पत्र लेने का फैसला किया गया।
एम्ब्रॉयडरी यूनिट संचालकों का कहना है कि एम्ब्रॉयडरी उद्योग में एक महीने से जिस तरह का माहौल खड़ा किया जा रहा है, उससे व्यापार पर गंभीर असर पड़ रहा है। कुछ लोग जान-बूझकर माहौल बिगाड़ रहे हैं। जिस तरह की मांग की जा रही है, वह संचालकों के लिए घाटे का सौदा बन जाएगी। कुछ लोग निजी स्वार्थ के कारण हड़ताल करवा रहे हैं। इसका नुकसान निर्दोष श्रमिकों को उठाना पड़ रहा है। ऐसे लोगों को बेनकाब करने के लिए श्रमिकों की पहचान जरूरी है। आंजणा इंडस्ट्रियल सोसायटी के प्रमुख श्रवण जोशी ने बताया कि मीटिंग में 300 से अधिक संचालक उपस्थित थे। सबने श्रमिकों से पहचान पत्र लेने का फैसला किया। दूसरी ओर अखिल गुजरात एम्ब्रॉयडरी ऑनर्स एसोसिएशन के प्रमुख दिनेश अड़घण ने बताया कि हम श्रमिक संगठनों की ओर से उनकी मांगों का इंतजार कर रहे हैं। मंगलवार को एम्ब्रॉयडरी यूनिट संचालकों और श्रमिक संगठनों की मीटिंग में श्रमिक संगठनों ने लेबर कमिश्नर को अपनी मांगों का ज्ञापन देने की बात कही थी, लेकिन वह बुधवार को ज्ञापन नहीं दे सके। श्रमिक संगठन से जुड़े शान खान ने बताया कि गुरुवार को वह लेबर कमिश्नर, पुलिस कमिश्नर तथा एम्ब्रॉयडरी एसोसिएशन के सदस्यों को ज्ञापन देंगे।
øøøø

नोटबंदी के दिनों में बड़ी रकम जमा कराने वालों को स्क्रूटनी का नोटीस
आयकर विभाग ने नोटबंदी के दिनों में बड़ी रकम जमा कराने वालों करदाताओं को नोटिस भेजकर आय का स्रोत बताने को कहा है।
सूरत समेत दक्षिण गुजरात में सैकड़ो करदाताओं को नोटिस दिया गया है। यह नोटिस नोटबंदी के दिनों में दो लाख रुपए से अधिक रकम जमा कराने वालों को दिया गया है। इन करदाताओं को पहले भी नोटिस देकर इतनी बड़ी रकम के स्रोत की जानकारी मांगी गई थी। कई करदाताओं ने इसके जवाब दिए थे, लेकिन उनके जवाब से संतुष्ट नहीं होने के कारण उनका केस स्क्रूटनी में चुना गया है। सूरत कमिश्रनरेट में बड़ी संख्या में करदाताओं को नोटिस दिया गया है। इस नोटिस का जवाब नहीं देने पर या सही जवाब नहीं देने पर आयकर विभाग करदाताओं पर कार्रवाई करेगा।

Pradeep Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned