लॉकडाउन पार्ट-2 में भी सेवा जज्बा ज्यों का त्यों

स्वयंसेवी संगठनों की ओर से शहर के विभिन्न क्षेत्रों के जरुरतमंदों के बीच पहुंचकर सेवा जज्बा दिखाने का दौर यथावत

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 18 Apr 2020, 09:02 PM IST

सूरत. गुजरात की औद्योगिक राजधानी सूरत महानगर में जरुरतमंदों के बीच सेवायज्ञ लॉकडाउन पार्ट-2 में भी सेवाभावी संस्थाओं की ओर से ज्यों का त्यों चल रहा है। स्वयंसेवी संगठनों की ओर से शहर के विभिन्न क्षेत्रों के जरुरतमंदों के बीच पहुंचकर सेवा जज्बा दिखाने का दौर यथावत बना हुआ है।
बाबा भोलेनाथ भंडारा संघ की ओर से प्रत्येक रविवार को कपड़ा बाजार में जरुरतमंदों को भोजन परोसा जाता है। लॉकडाउन के दौरान संघ की ओर से महाराजा अग्रसेन भवन में बड़ी संख्या में भोजन के पैकेट तैयार कर बाद में जरुरतमंदों तक पहुंचाए जा रहे है। इस सेवाकार्य में संघ के झाबरमल गोयल, विजय गोयल, सुभाष मित्तल, प्रकाश बिंदल समेत कई सदस्य जुटे हैं।
विश्व हिन्दू परिषद व बजरंग दल की ओर से जारी सेवा साधना में रोजाना भोजन के सैकड़ों पैकेट्स तैयार कर शहर के रांदेर, अडाजण, उधना, पांडेसरा, सचिन, लिंबायत, गोडादरा, डिंडोली, पुणागांव, कतारगांव आदि क्षेत्र में जरुरतमंदों को बांटे जा रहे हैं। शहर में 27 केंद्रों पर भोजन तैयार हो रहा है। इसके अलावा मास्क, सेनेटाइजर, राशन किट वितरण भी विहिप व बजरंग दल कर रहा है।
सांईलीला ग्रुप की ओर से लॉकडाउन के दौरान ङ्क्षलबायत क्षेत्र के जरुरतमंदों के बीच भोजन वितरण कार्य लगातार जारी है। ग्रुप के सदस्य व कपड़ा व्यापारी सुनील पाटिल, सम्राट पाटिल आदि इस सेवा कार्य में सक्रिय बने हुए हैं और क्षेत्र की सुदर्शन सोसायटी में जरुरतमंदों को सोश्यल डिस्टेंस के साथ भोजन परोसा जा रहा है। ग्रुप ने लोगों के बीच मास्क भी वितरित किए हैं।
टीकमनगर माहेश्वरी सभा की ओर से लॉकडाउन के दौरान मूक पशुओं की सेवा शुरू की गई है। टीकमनगर क्षेत्र की गोशाला में आश्रित गाय व सडक़-गलियों में घूमते गाय, श्वान आदि पशुओं के लिए चारा-पानी, रोटी, बिस्किट आदि का इंतजाम किया जा रहा है। मूक पशुओं के सेवाकार्य में सभा के जगदीश कोठारी, ओम हरकूट, जगदीश मुंदड़ा समेत अन्य कई सेवाभावी सक्रिय है।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned