किसानों को ७० दिन बाद मिला पानी

खोतों में फसलों की बुवाई शुरू, सिंचाई के लिए कैनाल में पानी छोड़े जाने से किसानों में हर्ष

By: Divyesh Kumar Sondarva

Published: 10 Feb 2018, 11:18 PM IST

सूरत. दक्षिण गुजरात में उकाई काकरापार बायां किनारा कैनालों की मरम्मत कार्य पूर्ण होने पर 70 दिन बाद कैनाल में पानी छोड़े जाने से किसानों में हर्ष व्याप्त है। सिंचाई के लिए कैनाल में पानी आने से किसानों ने खेतों में गन्ना व धान की फसलों की बुवाई शुरू की। 13 फरवरी से दाहिना किनारा कैनाल में भी पानी छोड़ा जाएगा।

 

Farmers got water after 70 days

बुवाई शुरू कर दी

दक्षिण गुजरात मे किसानों की ओर से धान व गन्ने की फसल की बुवाई शुरू कर दी है। वहीं 70 दिन से नहर में सिंचाई का पानी नहीं होने से नहर पर निर्भर किसान खेतों में फसलों की बुवाई नहीं कर पा रहे थे। वहीं जिन किसानों के पास खेत में कुएं और बोर की सुविधा है उन्होंने फसलों की बुवाई शुरू कर दी, लेकिन शेष किसान पिछले ७० दिनों से नहर में पानी आने का इंतजार कर रहा था।

Farmers got water after 70 days

प्रशासन पानी बचाने के प्रयास में

नहर में पानी आने से किसानों ने खेतों में फसलों की बुवाई कार्य शुरू कर दिया। एक ओर प्रदेश भर में पानी की किल्लत होने से प्रशासन पानी बचाने के प्रयास में लगा है। ऐसे मे किसानों को जरूरत अनुसार पानी खर्च करने की नसीहत दी गई है। सूत्रो के अनुसार पहले रोटेशन में तीन हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जाएगा। इसके बाद क्रमश: उसे बढ़ा कर पांच हजार क्यूसेक तक ले जाया जाएगा। वहीं दहना किनारा कैनाल मे से पानी छोड़ा जाएगा। एक ओर जहां किसान पानी को लेकर परेशान है वहीं दूसरी ओर सूरत जिले के पलसाना तहसील के गंगाधरा में जिला स्तरीय राष्ट्रीय कृमिनाशक दिवस कार्यक्रम का उद्घाटन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ईश्वर परमार और स्वास्थ्य मंत्री कुमार कानाणी ने किया। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री कुमार कानाणी ने कहा कि बच्चों में मानसिक व शारीरिक विकास के लिए पौष्टिक आहार का सेवन महत्वपूर्ण है। बच्चों को अगर शुरू से ही साफ सफाई की आदतें सिखाई जाएं तो उन्हें अधिक संक्रमण भी नहीं होता और वे स्वस्थ भी रहते है। बच्चों को इस बात का अहसास करना बहुत जरूरी है कि न सिर्फ निजी बल्कि आसपास के वातावरण की साफ-सफाई रखना भी बेहद महत्वपूर्ण है। उन्हें कूड़ा हमेशा कूड़ेदान में ही डालने की आदत डालें।

Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned