FATEHPUR-SHEKHAWATI: जन्मभूमि पर कोरोना को मिली शिकस्त

श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति संचालित कोविड केयर सेंटर में सभी दो सौ मरीजों को मिली अस्पताल से छुट्टी

परमार्थ भाव से गुजरात की कर्मभूमि सूरत से राजस्थान की जन्मभूमि फतेहपुर-शेखावाटी में शुरू की गई सेवा का मेवा श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति को महज एक माह में ही शत-प्रतिशत सफलता मिल गई है। शनिवार को समिति संचालित फतेहपुर के दोनों कोविड केयर सेंटर से सभी कोरोना मरीजों की सकुशल घरवापसी हो गई। यहां अभी तक दो सौ मरीज उपचार हासिल कर चुके

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 05 Sep 2020, 08:34 PM IST

सूरत. परमार्थ भाव से गुजरात की कर्मभूमि सूरत से राजस्थान की जन्मभूमि फतेहपुर-शेखावाटी में शुरू की गई सेवा का मेवा श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति को महज एक माह में ही शत-प्रतिशत सफलता मिल गई है। शनिवार को समिति संचालित फतेहपुर के दोनों कोविड केयर सेंटर से सभी कोरोना मरीजों की सकुशल घरवापसी हो गई। यहां अभी तक दो सौ मरीज उपचार हासिल कर चुके हैं।
लॉकडाउन में गत 27 मार्च से लगातार सेवारत श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति के पूर्व अध्यक्ष राजकुमार सर्राफ ने बताया कि राजस्थान के सीकर जिले के फतेहपुर-शेखावाटी कस्बे में जुलाई तक कोरोना पॉजिटिव मरीजों को उपचार के लिए सांवली अथवा सरदारशहर कोविड केयर सेंटर भेजा जाता था। इस संबंध में समिति ने जिला कलक्टर अविचल चतुर्वेदी से सम्पर्क कर कोविड केयर सेंटर संचालन की जिम्मेदारी उठाने की जानकारी दी और पहला कोविड केयर सेंटर फतेहपुर के धोळी सती दादी मंदिर के भवन में 5 अगस्त को श्रीराममंदिर शिलान्यास के उपलक्ष में किया गया। इसके 10 दिन बाद 15 अगस्त को दूसरा सेंटर समिति ने भरतिया होस्पीटल में संचालित करना शुरू कर दिया। वर्तमान अध्यक्ष शिवरतन देवड़ा ने बताया कि समिति संचालित धोळी सती दादी मंदिर भवन में अभी तक 48 और भरतिया होस्पीटल में 152 कोरोना मरीजों का उपचार किया गया और शनिवार को दोनों सेंटर पर एक भी कोरोना मरीज उपचाराधीन नहीं था हालांकि समिति की ओर से वहां कोविड केयर सेंटर सेवा आगे भी यथावत रहेगी। समिति के कोषाध्यक्ष सुनील सिंघल ने बताया कि समिति सूरत में जल्द शिक्षा व अन्नक्षेत्र में सेवाकार्य शुरू करने की मंशा बना रही है।


बांट चुके 16 लाख फूड पैकेट्स


समिति के सचिव सुशील बजाज ने बताया कि सूरत में श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति स्वास्थ्य, शिक्षा व धर्मार्थ क्षेत्र में गत 27 वर्षों से कार्यरत है। कोरोना से उपजे लॉकडाउन के दौरान समिति की ओर से शहरभर में जरुरतमंदों के लिए 16 लाख फूड पैकेट्स की व्यवस्था की गई थी। इसके अलावा नई सिविल व स्मीमेर होस्पीटल में उपचाराधीन कोरोना मरीजों को भी दोनों वक्त का सात्विक भोजन पहुंचाने की सेवा समिति दे चुकी है।


705 कोरोना मरीजों ने लिया लाभ


उधर, समिति की ओर से जरुरतमंद कोरोना मरीजों के लिए निशुल्क ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था भी समय के साथ की गई। इस सेवा की देखरेख कर रहे समिति के सहसचिव मुरारी सर्राफ ने बताया कि कोरोना के गंभीर मरीजों को निशुल्क ऑक्सीजन सिलेंडर सेवा भटार के अन्नपूर्णा स्टोर से महेश राठी की निगरानी में 24 घंटे दी गई और राकेश देवड़ा की देखरेख में 10 चिकित्सकों का दल होम क्वारंटाइन सैकड़ों मरीजों को उपचार दे रहा है।

Show More
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned