स्लम इलाकों में खुलेंगे फीवर क्लीनिक

किया डोर टु डोर सर्वे, सीवियर और इन्फ्लुएंजा इंफेक्शन के मरीजों के लिए शुरू होगा वार रूम, खुलेंगे फीरव क्लीनिक

By: विनीत शर्मा

Published: 06 Apr 2020, 10:40 PM IST

सूरत. शहर के स्लम इलाकों में सामने आ रहे बुखार के मरीजों के लिए मनपा प्रशासन शहर में अलग-अलग जगहों पर फीवर क्लीनिक भी खोलने जा रहा है। सीवियर और इन्फ्लुएंजा इंफेक्शन के लिए वार रूम बनाया जाएगा। नेचर पार्क और एक्वेरियम में जीव-जंतुओं को भी कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए मनपा प्रशासन विशेष व्यवस्था कर रहा है।

मौसम में बदलाव के साथ ही बुखार के मरीजों के सामने आने की स्थितियां बन जाती हैं। बढ़ती गर्मी के कारण भी लोग बीमारियों का शिकार हो जाते हैं। कोरोना संक्रमण के बीच में इनसे निपटना मनपा प्रशासन के लिए आसान नहीं है। इसे देखते हुए मनपा प्रशासन ने सीवियर बुखार और इन्फ्लुएंजा के मरीजों को चिन्हित करने के लिए डोर टु डोर सर्वे शुरू किया है। मनपा की स्वास्थ्य टीम घर-घर जाकर लोगों से जानकारियां जुटा रही है। संदिग्ध मामला सामने आते ही शीर्ष अधिकारियों को इसकी सूचना दी जा रही है। इस स्थिति से निपटने के लिए मनपा प्रशासन ने वार रूम शुरू करने का निर्णय किया है। ऐसे मामले अधिकतर स्लम विस्तारों में ही सामने आते हैं, इसलिए शहर के सभी स्लम इलाकों में फीवर क्लीनिक खोलने की कवायद शुरू की है। आयुक्त बंछानिधि पाणि ने कहा कि स्लम इलाकों में फीवर क्लीनिक खोलने से कोरोना मरीजों से जूझ रहे अस्पतालों पर अतिरिक्त दबाव कम किया जा सकेगा।

कोरोना का वायरस मनुष्यों के साथ ही जीव-जंतुओं को भी संक्रमित कर सकता है। ऐसे में मनपा संचालिक प्राणि संग्रहालय और एक्वेरियम के इसकी चपेट में आने की आशंका अधिक है। जिसे देखते हुए मनपा प्रशासन ने प्राणि संग्रहालय के जीव-जंतुओं और एक्वेरियम की मछलियों को संक्रमण से बचाने के लिए अलग से योजना पर काम किया है। आयुक्त ने बताया कि सरथाणा स्थित प्राणि संग्रहालय और पाल स्थित एक्वेरियम की जिम्मेदारी संभाल रहे अधिकारियों को उनके यहां जीव-जंतुओं पर नजर रखने के लिए कहा गया है। कोरोना के लक्षण दिखने पर उन्हें अन्य जीव-जंतुओं से अलग रखने के साथ ही विशेष उपचार दिया जाएगा।

COVID-19 COVID-19 virus
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned