ऐसे मजबूत होगा दमकल बेड़ा

खरीदी जाएंगी दो टर्न टेबल लैडर, हाइ मोबिलिटी कॉरिडोर के लिए शहर के इनर कोट विस्तार में बनेंगे 14 बस शेल्टर, टीएससी की बैठक में होगा फैसला,

Vineet Sharma

January, 1509:32 PM

सूरत. दमकल बेड़े को मजबूत करने के लिए सूरत महानगर पालिका प्रशासन दो नए टर्न टेबल लैडर खरीदने जा रहा है। इस पर 11 करोड़ रुपए से ज्यादा का खर्च आएगा। इसके अलावा शहर के इनर कोट विस्तार में हाइ मोबिलिटी कॉरिडोर के लिए 14 बस शेल्टर्स बनाए जाने हैं। टेंडर स्क्रूटनी कमेटी की गुरुवार को होने वाली बैठक में इन पर निर्णय किया जाएगा।

तक्षशिला आग हादसे के बाद मनपा प्रशासन दमकल बेड़े को मजबूत करने में जुटा है। पिछले दिनों मनपा ने जंपिंग कुशन और थर्मल इमेजिंग कैमरे खरीदे हैं। इससे पहले 55 मीटर ऊंचाई के टर्न टेबल लैडर को दमकल बेड़े में शामिल किया गया था। इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए मनपा प्रशासन अब जर्मनी मेक 32 मीटर ऊंचाई और 42 मीटर ऊंचाई के दो नए टर्न टेबल लैडर खरीदने जा रहा है। इस पर 11.65 करोड़ रुपए खर्च होंगे। सात साल के लिए प्रति लैडर 51.97 लाख रुपए अतिरिक्त खर्च होंगे। साथ ही मनपा को मुम्बई पोर्ट से सूरत लाने का खर्च भी वहन करना होगा। टेंडर स्क्रूटनी कमेटी (टीएससी) की गुरुवार को होने वाली बैठक में इस पर निर्णय किया जाएगा।

इसके अलावा मनपा प्रशासन शहर के इनर कोट विस्तार में हाइ मोबिलिटी कॉरिडोर के लिए 14 बस शेल्टर बनाने जा रहा है। इस पर 34.16 लाख रुपए का प्रस्ताव मिला है। माना जा रहा है कि टीएससी की बैठक में भाव कम कराने पर चर्चा हो सकती है। साथ ही एजेंडे में किड्ज सिटी के प्रस्ताव को भी शामिल किया गया है। इसका सिविल वर्क पूरा हो चुका है। अब इलेक्ट्रिकल और इंटीरियर का काम कराया जाना है। पांच साल के लिए मेटिनेंस सहित इस पर 8.27 करोड़ रुपए खर्च होंगे। मनपा प्रशासन अपनी पुरानी इमारतों की स्ट्रक्चरल स्टेबिलिटी जांचने का काम एसवीएनआईटी को देने जा रहा है। बैठक में इसकी यूनिट रेट तय करने के प्रस्ताव पर भी चर्चा होगी। साथ ही ब्रिजों के नीचे पे एंड पार्किंग समेत एजेंडे में शामिल अन्य प्रस्तावों पर चर्चा के बाद निर्णय किया जाएगा।

तैयार होंगे नए रिचार्ज वेल

कई साल से मनपा प्रशासन बारिश के पानी को भूगर्भ में जमा करने की कवायद में जुटा है। इसके लिए जगह-जगह रिचार्ज वेल तैयार किए जा रहे हैं। मनपा प्रशासन ने रिचार्ज वेल के लिए जोनवार वाटर लॉगिंग साइट्स का भी अध्ययन किया है। मनपा प्रशासन भूजल रिचार्ज के लिए 34 नए रिचार्ज वेल बनाने जा रहा है। इस पर 50.88 लाख रुपए खर्च होने हैं। शहरभर में पहले बने रिचार्ज वेलों की मरम्मत का काम भी हाथ में लिया जा रहा है। इसके लिए मनपा को 31.85 लाख रुपए का प्रस्ताव मिला है। गुरुवार को होने वाली टीएससी की बैठक में इस पर चर्चा की जाएगी। माना जा रहा है कि आयुक्त नए रिचार्ज वेल के लिए संबंधित अधिकारियों से वाटर लॉगिंग साइट्स को नए सिरे से जांचने की हिदायत दे सकते हैं।
øøøø

फोटो है...
ट्रायल रन में हर स्टेशन पर तय समय से पहले पहुंची तेजस
-आइआरसीटीसी के तीन सुपरवाइजर रखेंगे व्यवस्थाओं पर नजर
सूरत. अहमदाबाद से सूरत के बीच मंगलवार को अहमदाबाद-मुम्बई तेजस एक्सप्रेस का ट्रायल रन पूरा हो गया। तेजस एक्सप्रेस प्रत्येक स्टेशन पर दो-तीन मिनट पहले पहुंची। ट्रायल रन के दौरान हाउस कीपिंग, कैटरिंग और सुरक्षा विभाग के कर्मचारियों को भी कार्य के बारे में समझाया गया। आइआरटीसीसी के जीजीएम ट्रायल रन के दौरान मौजूद थे। 17 जनवरी को अहमदाबाद में तेजस एक्सप्रेस का उद्घाटन फेरा चलाया जाएगा। इसका नियमित फेरा 19 जनवरी से शुरू होगा।
आइआरसीटीसी द्वारा मंगलवार को मकर संक्रांति पर ट्रायल रन रखा गया। तेजस एक्सप्रेस अहमदाबाद से सुबह 6.40 बजे रवाना हुई। नडिय़ाद, वडोदरा, भरुच होते हुए यह सूरत पहुंची। ट्रेन का नडिय़ाद पहुंचने का समय 7.19 बजे, वडोदरा का 8.03, भरुच का 8.56 और सूरत का 9.35 निर्धारित था। आइआरसीटीसी के ग्रुप जनरल मैनेजर (जीजीएम) राहुल हिमालयन ने राजस्थान पत्रिका को बताया कि ट्रायल रन के दौरान यह करीब-करीब सभी स्टेशनों पर दो से तीन मिनट पहले पहुंची। प्राइवेट ट्रेन होने के कारण इसके संचालन की पूरी जिम्मेदारी आइआरसीटीसी के अधीन रहेगी। हाउस कीपिंग, कैटरिंग तथा सिक्यूरिटी स्टाफ के लिए आइआरसीटीसी द्वारा तीन सुपरवाइजर नियुक्त किए जाएंगे। रख-रखाव के लिए मैकेनिकल तथा इलेक्ट्रिकल विभाग के कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया गया है। सूरत स्टेशन परिसर में सुबह तथा शाम को ट्रेन आने से एक घंटे पहले टिकट काउंटर शुरू करने की जगह निर्धारित की गई है।
कैटरिंग व्यवस्था में चौकसी बढ़ाई
शताब्दी एक्सप्रेस के बाद तेजस एक्सप्रेस में दूषित खाने से यात्रियों के बीमार होने के मामले सामने आने के बाद आइआरसीटीसी द्वारा सिर्फ जुर्माने की कार्रवाई की गई। ऐसे ठेकेदारों पर लगाम लगाने के लिए ठोस कार्रवाई नहीं हो रही है। आइआरसीटीसी के जीजीएम राहुल हिमालयन ने पत्रिका को बताया कि कुछ शिकायतें सामने आई हैं। आइआरसीटीसी के स्टाफ को कड़े निर्देश दिए गए हैं कि खान-पान सामग्री को ट्रेन में चढ़ाने से पहले और बाद में अच्छी तरह जांच करें। दो-तीन बार जांच के बाद ही सामग्री को ट्रेन में चढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं।
वेस्टर्न रेलवे मजदूर संघ करेगा विरोध
उत्तर भारतीय रेल संघर्ष समिति ने सूरत तथा उधना स्टेशन से यूपी-बिहार के लिए पर्याप्त ट्रेनों की सुविधा नहीं होने के कारण तेजस एक्सप्रेस का विरोध करने की घोषणा की है। संघर्ष समिति के लोगों ने सांसद सी.आर. पाटिल से मुलाकात कर यूपी-बिहार की ट्रेनों को प्रतिदिन चलाने तथा कोचों की संख्या बढ़ाने की मांग की थी। अब वेस्टर्न रेलवे मजदूर संघ के सूरत ब्रांच सेक्रेटरी भूपेन्द्र राजावत ने सूरत स्टेशन डायरेक्टर, रेलवे सुरक्षा बल, रेलवे पुलिस को तेजस एक्सप्रेस के विरोध करने का ज्ञापन सौंपा है। भूपेन्द्र ने बताया कि वेस्टर्न रेलवे मजदूर संघ शुरू से रेलवे के निजीकरण तथा निगमीकरण का विरोध कर रहा है। केन्द्र सरकार रेल कर्मचारियों के हितों की अनदेखी कर रेलवे को प्राइवेट हाथों में सौंपती जा रही है। इससे यात्रियों को मिलने वाली सुविधाओं के स्तर में गिरावट आई है। ठेके पर नियुक्त कर्मचारी लापरवाही बरतते हैं तो उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई नहीं होती। वेस्टर्न रेलवे मजदूर संघ के बैनर तले रेल कर्मचारी तेजस एक्सप्रेस के आगमन पर सूरत स्टेशन पर विरोध प्रदर्शन करेंगे।

Show More
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned