ARRESTED : कडोदरा में चोरी करने के बाद, सणिया हेमद के फॉर्म हाउस में था डकैती का इरादा


- कुख्यात चिकलीगर गिरोह के पांच गिरफ्तार, सात घटनाओं का भेद खुला
- घिर गए तो पुलिस उप निरीक्षक को किया कार से कुचलने का प्रयास

- After stealing in Kadodara, Sania was intent on robbery in Hemad's form house
- If surrounded, police sub-inspector tried to crush him with a car

By: Dinesh M Trivedi

Published: 15 May 2021, 11:13 AM IST

सूरत. चोरी, लूट व डकैती की दर्जनों वारदातों में लिप्त रहे कुख्यात चिकलीगर गिरोह के पांच जनों को क्राइम ब्रांच ने एक फॉर्म हाउस में लूट की साजिश को अंजाम देने से पहले ही धर दबोचा। जब पुलिस टीम ने घेरा तो बचने के लिए उन्होंने पुलिस उप निरीक्षक को कार से कुचलने का प्रयास भी किया। पुलिस ने उनसे पूछताछ में कुल आठ घटनाओं के पर्दाफाश का दावा किया है।
क्राइम ब्रांच के एसीपी आर.आर. सरवैया ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली थी कि कुख्यात चिकलीगर गिरोह के कुछ लोग चार पहिया गाड़ी में मोहीनी गांव होते हुए सणिया हेमद गांव के निकट एक फॉर्म हाउस में हथियारों के साथ डकैती को अंजाम देने वाले हैं।

इसके आधार पर पुलिस ने अलग-अलग टीमें तैयार कर जाल बिछाया। मोहीनी गांव के निकट पिकअप के पहुंचने पर उसे हाथ का इशारा कर रोकने का प्रयास किया, लेकिन आरोपियों ने वाहन रोकने के बदले रिवर्स लेकर भागने का प्रयास किया। पुलिस ने पीछे वाहन लगा कर रास्ता रोक रखा था। भागने की कोशिश में उन्होंने पुलिस वाहन को टक्कर मारी, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।
आरोपियों ने खड़े पुलिस उप निरीक्षक पीएम वाला को कुचलने का प्रयास किया। उनके इरादे समझ वाला ने कूद कर जान बचाई। भागने की हड़बड़ी में आरोपियों ने सडक़ किनारे लगे लारी-गल्लों को टक्कर मारी तो गाड़ी फंस गई। इसके बाद उन्होंने उतर कर भागने की कोशिश की लेकिन पुलिसकर्मियों ने चारों से तरफ से उन्हें घेर कर गिरफ्तार कर लिया।


फॉर्म हाउस तय नहीं था


थाने लाकर कड़ी पूछताछ में उन्होंने पिछले कुछ दिनों के दौरान उन्होंने कामरेज व शहर के खटोदरा, पांडेसरा व सचिन जीआइडीसी इलाकों में चोरी की आधा दर्जन घटनाओं को अंजाम देना कबूल किया। उन्होंने बताया कि वे गाड़ी लेकर कडोदरा में चोरी करने गए थे, लेकिन वहां कुछ खास सामान हाथ नहीं लगा था।

लौटते समय उनका इरादा सणिया हेमद के निकट स्थित किसी फॉर्म हाउस में डकैती का था। उन्होंने प्लान बनाया था कि फॉर्म हाउस में घुस कर लूट को अंजाम देंगे। कडोदरा में हुई चोरी और पुलिसकर्मी पर जानलेवा हमले को लेकर क्राइम ब्रांच ने अलग से मामला दर्ज किया है।


32 से अधिक घटनाओं में लिप्त रहा है आजाद सिंह


पुलिस के मुताबिक गिरोह में डिंडोली भेस्तान आवास निवासी अजयसिंह उर्फ मामू दुधनी, आजादसिंह उर्फ धनारी, अमृतसिंह उर्फ अन्ना, बडौदा एकतानगर झोपड़पट्टी निवासी रोहित सिंह व नवसारी भुवनेश्वरी कॉम्प्लेक्स निवासी हरजीत सिंह बावरी है। सभी महाराष्ट्र के नांदेड़ व जलगांव के मूल निवासी है। गिरोह का मुख्य सूत्रधार आजाद सिंह है। उसके खिलाफ सूरत शहर और ग्रामिण व नवसारी में चोरी व वाहन चोरी समेत कुछ 32 मामले दर्ज हो चुके हैं। वह तीन माह पूर्व ही लाजपोर जेल से रिहा हुआ है। उसके दो साथियों अजयसिंह के खिलाफ 7 और अमृतसिंह के खिलाफ 10 मामले दर्ज है।


यह हुआ बरामद


पुलिस ने बताया कि आरोपियों के कब्जे से एक चार पहिया वाहन जब्त किया है। इसमें छिपा कर रखे गया लाल मिर्च पाउडर के दो पैकेट, एक बड़ा चाकू, लोहे के तीन सरिए, एक टॉर्च, कटर, एक थैली में कुछ पत्थर समेत कुछ और औजार बरामद हुए हैं।

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned