scriptFOSTTA ELECTION: Voter membership drive started, doubts still persist | FOSTTA ELECTION: मतदाता सदस्यता अभियान शुरू, संदेह फिर भी कायम | Patrika News

FOSTTA ELECTION: मतदाता सदस्यता अभियान शुरू, संदेह फिर भी कायम

-चुनाव के दबाव के बीच अब फोस्टा की ओर से सूरत कपड़ा मंडी में बांटे जा रहे है मतदाता सदस्यता आवेदन पत्र
-चुनाव प्रक्रिया को सार्वजनिक नहीं किए जाने पर कपड़ा व्यापारियों ने ही खड़े कर दिए है सवालिया निशान

सूरत

Published: June 13, 2022 10:52:09 am

सूरत. आखिर फैडरेशन ऑफ सूरत टेक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन ने सात साल से लंबित चुनाव प्रक्रिया को आगे बढ़ाने का मानस बनाते हुए सूरत कपड़ा मंडी के टेक्सटाइल मार्केट्स में मतदाता सदस्यता आवेदन पत्र भेजना शुरू कर दिया है। वो अलग बात है कि आश्वासनों के दूध से जले कपड़ा व्यापारी अब फोस्टा की प्रत्येक गतिविधि को छाछ के समान फूंक-फूंककर पी रह हैं। बहरहाल गत एक-दो दिन से फोस्टा की ओर से मतदाता सदस्यता अभियान शुरू किया गया है और बताया है कि अगले तीन-चार दिन तक सभी टेक्सटाइल मार्केट्स में आवेदन पत्र पहुंचा दिए जाएंगे। इसके बाद निर्धारित तिथि तक सभी मार्केट्स ट्रेडर्स एसोसिएशन की ओर से आवेदन पत्र भरकर जमा कराए जाएंगे।
देशभर में व्यापारिक साखदार सूरत कपड़ा मंडी के मातृ संगठन फैडरेशन ऑफ सूरत टेक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन में लोकतांत्रिक प्रक्रिया से चुनाव होना सात साल से बाकी है। 2015 से ही फोस्टा चुनाव की मांग के साथ कपड़ा व्यापारियों ने कई बार आंदोलन किए हैं, लेकिन उनका हश्र ढाक के तीन पात जैसा ही रहा है। इस मामले में आंदोलनरत व्यापारियों की मानें तो फोस्टा के मनोनीत पदाधिकारियों का जितना गैरजिम्मेदाराना रवैया जिम्मेदार है उतना ही कर्तव्य और संविधान की शपथ लेकर डायरेक्टर्स बने शेष सदस्यों की अकर्मण्यता भी मुख्य है। बहरहाल इन दिनों फिर फोस्टा चुनाव आंदोलन पूरी गहमा-गहमी के साथ सूरत कपड़ा मंडी में जारी है, हालांकि अभी इसकी धार गोपनीय बैठकों व सोशल मीडिया के दौर तक ही सिमटी हुई है। एक बार फोस्टा चुनाव के फिर से बढ़ते दबाव के बीच मनोनीत पदाधिकारियों ने पिछले एक-दो दिन से ही सूरत कपड़ा मंडी के टेक्सटाइल मार्केट्स में मतदाता सदस्यता आवेदन पत्र पहुंचाना शुरू किया है और बताया जा रहा है कि इस बार हर हाल में चुनाव करवाए जाने की मंशा के साथ यह अभियान शुरू किया गया है। सूत्र बताते हैं कि अगले तीन-चार दिन में सूरत कपड़ा मंडी के सभी टेक्सटाइल मार्केट्स में मतदाता सदस्यता आवेदन पत्र पहुंच जाएंगे और फिर निर्धारित तारीख तक भरकर जमा कराए जाएंगे, हालांकि आवेदन पत्र में जमा कराने की अंतिम तारीख का कहीं जिक्र नहीं है और ना ही सदस्यता राशि के बारे में जानकारी दी गई है।
SURAT KAPDA MANDI: शर्म-झिझक छोडि़ए, कड़े व्यापारिक नियम बनाइए...
SURAT KAPDA MANDI: शर्म-झिझक छोडि़ए, कड़े व्यापारिक नियम बनाइए...
-सवालिया निशान उठने की हैं ठोस वजह

सूरत कपड़ा मंडी में प्रत्येक वर्ष मार्च से अप्रेल-मई तक, जुलाई मध्य से अगस्त-सितम्बर तक और दीपावली के दिनों में व्यापारिक ग्राहकी का सीजन रहता है और ग्राहकी के दौर के बीच कपड़ा व्यापारियों का ध्यान पूरा व्यापार की तरफ केंद्रित रहता है। यहीं बड़ी वजह है कि फोस्टा चुनाव की मांग सीजन के सिवाय अवधि में ही ज्यादा उठाई गई है, फिर वह जनवरी-फरवरी में चली मुहिम हो अथवा मई से ही जारी आंदोलन, ऑफसीजन में ही जोर पकड़ा है। 15 जुलाई के बाद फिर एक बार सूरत कपड़ा मंडी में व्यापारिक सीजन शुरू हो जाएगा तो ऐसे में पिछले जोनवार मीटिंग्स की तरह मतदाता सदस्यता अभियान भी फुस्स हो जाने के सवालिया निशान निशान भी उठने लगे हैं। अगस्त-सितम्बर तक व्यापारिक गहमा-गहमी के बाद गुजरात विधानसभा चुनाव की गतिविधि प्रारम्भ हो जाएगी और एक बार फिर फोस्टा चुनाव का मुद्दा जस का तस रह जाने की आशंका व्यापारियों को यूं ही नहीं है।
-पिछले समय में रह हैं सभी को यह अनुभव

सात साल पहले 2015 के जुलाई महीने में फोस्टा चुनाव ने काफी गति पकड़ी थी और तब तीन माह में चुनाव सम्पन्न कराने का वादा-दावा करने वाले मनोनीत पदाधिकारियों ने मतदाता सूची में रंगीन कपड़े के ही व्यापारियों के नाम शामिल किए जाने की ऐसी जिद पकड़ी कि फिर फोस्टा चुनाव की मांग वह साल तो क्या आगे 2016 और 2017 तक भी उठ नहीं पाई। 2016 में नोटबंदी और 2017 में जीएसटी आंदोलन से सूरत कपड़ा मंडी में अलग हवा बही। इसके बाद 2018 व 2019 में भी फोस्टा चुनाव की मांग उठी, लेकिन मौनी बाबा के समान मनोनीत पदाधिकारियों ने गहरी चुप्पी साधे रखी और नतीजन वह प्रयास भी अधूरे ही रह गए। इस बार जनवरी-फरवरी और अब इन दिनों फिर से फोस्टा चुनाव की मांग कपड़ा व्यापारियों की ओर से सूरत कपड़ा मंडी में उठाई जा रही है।
-बता दें सीधे चुनाव की तारीख

बेहतर कार्यशैली और व्यापारिक एकता के बूते रिंगरोड कपड़ा बाजार स्थित जस टेक्सटाइल मार्केट की स्थिति पिछले वर्षों में काफी कुछ बदली है। मार्केट एसोसिएशन के सचिव महेंद्रसिंह भायल ने पत्रिका को फोस्टा चुनाव के संदर्भ में लिखे पत्र में बताया कि 10 साल से चुनाव नहीं होने की वजह से सूरत कपड़ा मंडी में अन्य व्यापारिक संगठन सक्रिय हुए हैं, लेकिन एशिया के सबसे बड़े सिल्क सिंथेटिक बाजार में संगठित संस्था कोई नहीं है, जिसके प्रति हजारों कपड़ा व्यापारी आंख बंद कर विश्वास कर सकें। फोस्टा चुनाव के मामले में आंख-मिचौली का खेल बहुत हो गया नीति-नीयत अगर साफ हैं तो अब पदाधिकारियों को सीधे चुनाव की तारीख बता देनी चाहिए। जस मार्केट में भी मतदाता सदस्यता आवेदन पत्र आए हैं तो निश्चय है कि कुछ हलचल अवश्य है, लेकिन पिछले अनुभव भी अब तक ऐसे रहे हैं कि जिससे चुनाव का मुद्दा ठंडे बस्ते में ही पहुंचता दिखा है। फोस्टा के डायरेक्टर्स ने भी कभी ईमानदारी से चुनाव के मुद्दे पर कोशिश नहीं की और इसी का परिणाम है कि हजारों कपड़ा व्यापारियों के मातृ संगठन फोस्टा को लोकतंत्र के अभाव में यह दिन देखने पड़ रहे हैं। सूरत कपड़ा मंडी की सभी टेक्सटाइल मार्केट्स एसोसिएशन को भी फोस्टा चुनाव के मुद्दे पर आगे आकर अपनी मांग सबके सामने रखनी चाहिए क्योंकि स्वस्थ लोकतंत्र से ही संवैधानिक अधिकार जिंदे रखे जा सकते हैं।
धन्यवाद।
FOSTTA ELECTION: मतदाता सदस्यता अभियान शुरू, संदेह फिर भी कायम

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे खेमे में आ चुके हैं सरकार बनाने भर के विधायक! फिर क्यों बीजेपी नहीं खोल रही अपने पत्ते?Maharashtra Political Crisis: ‘मातोश्री’ में मंथन! सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMaharashtra Political Crisis: 24 घंटे के अंदर ही अपने बयान से पलट गए एकनाथ शिंदे, बोले- हमारे संपर्क में नहीं है कोई नेशनल पार्टीBharat NCAP: कार में यात्रियों की सेफ़्टी को लेकर नितिन गडकरी ने कर दिया ये बड़ा काम, जानिए क्या होगा इससे फायदा2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामMumbai News Live Updates: शिवसेना ने कल पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ेंगे उद्धव ठाकरेनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकालCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.