विकास योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण

आदिवासियों का विकास जरूरी: भूपेन्द्रसिंह

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 03 Mar 2019, 09:56 PM IST

बारडोली.

तापी जिले की सोनगढ़ तहसील के गुणसदा गांव में करोड़ों की लागत से होने वाले विकास कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण रविवार को शिक्षामंत्री भूपेन्द्रसिंह चूडासमा ने किया। इस अवसर पर शिक्षामंत्री ने कहा कि सरकार ने वनबंधु कल्याण योजना के तहत आदिवासी क्षेत्र में सडक़, जल, बिजली, स्वास्थ्य, सिंचाई, शिक्षा जैसी सुविधाएं मुहैया कराने के लिए 70 हजार रुपए खर्च किए है। उन्होंने कहा कि आदिवासियों का विकास हो, इसके लिए सरकार चिंतित है।

 

उन्होंने कहा कि जल ही विकास का मूल वजह है। इसी कारणों से राज्य सरकार ने आदिवासी क्षेत्र में पेयजल और सिंचाई के लिए सुविधा उपलब्ध कराई हैं। उन्होंने सरकार की विभिन्न योजनाओं के बारे मे जानकारी है। उन्होंने कहा कि पहले देश में वोट बैंक की राजनीति होती थी, लेकिन गुजरात ने अब देश में विकास की राजनीति शुरू की है। गुजरात सरकार ने पानी का महत्व समझ कर जल संचय अभियान शुरू किया है। जिससे राज्य में पानी की बचत के साथ साथ भूगर्भ जल का स्तर भी बढ़ा है।

 

आदिजाति विकास मंत्री गणपत वसावा ने कहा कि आदिवासी क्षेत्र में सरकार की ओर से मुहैया की गई सिंचाई योजनाओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार वर्षों से जंगल में रहकर जंगल जमीन में खेती कर गुजारा कर रहे 85 हजार से अधिक परिवारों को करीब 13 लाख हेक्टर जमीन दी है। कार्यक्रम में मे गुजरात भर से आए 9957 आदिवासियों को जंगल जमीन के अधिकार पत्र दिए गए।

 

राज्य के जलदाय मंत्री परबत पटेल, भरुच के सांसद मनसुख वसावा, बारडोली के सांसद प्रभु वसावा भी उपस्थित थे। गौरतलब है कि इस कार्यक्रम में प्रदेश के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी शिरकत करने वाले थे, वहीं उनका स्वास्थ्य खराब होने की वजह से वो उपस्थित नहीं रह सके।

 

इन क्षेत्रों में करोड़ों के विकास कार्य शुरू

कार्यक्रम में शिक्षामंत्री भूपेंद्रसिंह चूड़ासमा और अन्य अतिथियों ने 911.84 करोड़ की लागत से सोनगढ़, उच्छल, निझर और कुकरमुंडा तहसील की सिंचाई योजना, 1999.49 लाख के व्यारा खेरवाड़ा मार्ग, 1500 लाख का करोड़-मोहिनी टावली मार्ग, 1300 लाख का वेल्धा-कविठा-कुकरमुंडा रोड, 1130 लाख का सोनगढ़- वाघनेरा-बोरिसावर रोड, 1100 लाख का धामण देवी- सराकेवडी रोड, 950 लाख का मिंढोला नदी पर ब्रिज और 750 लाख का छिपण खाड़ी पर ब्रिज का ई-शिलान्यास किया गया।

 

2793.94 लाख की लागत से बने डोलवण, कुकरमुंडा और उच्छल तहसील के तालुका सेवा सदन, सूरत जिले की मांडवी, मांगरोल और उमरपाड़ा तहसील के गांवों के लिए 256.15 करोड़ की लागत से तैयार काकरापार जूथ जलआपूर्ति योजना, सोनगढ़ पालिका की ओर से 125 लाख की लागत से बने ऑडिटोरियम का लोकार्पण किया गया। कार्यक्रम के दौरान नर्मदा जिले की देडियापाड़ा और सूरत जिले की उमरपाड़ा तहसील के गांवों को सिंचाई की सुविधा के लिए 719.66 करोड़ की तापी-करजन लिंक योजना की घोषणा की गई।

 

जेके पेपर मिल लिमिटेड द्वारा 1600 करोड़ की लागत से तैयार होने वाले पल्प मिल और बॉक्स पैकेजिंग प्लांट का आधुनिकरण और विस्तारीकरण कार्य का शिलान्यास भी किया गया। कार्यक्रम में वन अधिकार-पत्र और प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के गोल्डन कार्ड वितरण और जल आपूर्ति एवं सिंचाई विभाग की टेलीफिल्म प्रदर्शित किया गया।

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned