भाड़भूत बैरेज योजना में बनेगा गेबियन वाल

बोरभाठा गांव के पास जमीन की कटान रोकने की कवायद, गेबियन वाल के लिए नर्मदा किनारे लाया गया पत्थर, जल्द शुरु होगा काम

By: विनीत शर्मा

Published: 21 Jun 2021, 07:03 PM IST

भरुच. अंकलेश्वर तहसील के बोरभाठा बेट के पास नर्मदा नदी की धारा से जमीन के कटाव को रोकने की कवायद शुरू हो गई है। बीती 14 जून को राजस्थान पत्रिका में इस आशय का समाचार प्रकाशित होने के बाद प्रशासन हरकत में आया है। प्रदेश के सहकारिता राज्यमंत्री व अंकलेश्वर के विधायक ईश्वर पटेल ने खबर को संज्ञान में लेते हुए भाड़भूत रिवर कम बैरेज योजना के तहत इस काम को प्राथमिकता पर लेने की हिदायत दी। इसके बाद गेबियन वाल के लिए पत्थरों का नदी किनारे आना शुरु हो गया। प्रशासन की कार्रवाई देख ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है।

खास खबर: यह भी पढ़ें- नर्मदा ने किया भरुच से अंकलेश्वर का रुख

राजस्थान पत्रिका ने 14 जून के अंक में नर्मदा नदी में कटाव की खबर को विस्तार से प्रकाशित किया था। खबर छपते ही राज्य सरकार में मंत्री ईश्वर पटेल ने संज्ञान लिया तो प्रशासनिक मशीनरी हरकम में आ गई। कटाव रोकने के लिए गेबियन वाल बनाने की दिशा में काम शुरु हो गया है। संरक्षण दीवार बनने में समय लगने की स्थिति को देखते हुए पहले कटान को रोकने के लिए गेबियन वाल बनाने की कवायद शुरू हुई है। इसके लिए पत्थरों से बांध बनाया जाएगा। भाड़भूत रिवर कम बैरेज विभाग ने गेबियन वाल बनाने के लिए पत्थरों को बोरभाठा गांव के पास लाकर रखना शुरू कर दिया है। स्थानीय लोगों ने कहा कि काम जल्दी शुरु होने से गांव की ओर जाने वाला मार्ग बच जाएगा। साथ ही गांव के कच्चे-पक्के मकान भी सुरक्षित हो जाएंगे।

यह है मामला

नर्मदा नदी का बहाव पिछले 30 साल में अंकलेश्वर की ओर करीब डेढ़ किमी तक शिफ्ट हो चुका है। नदी में कटान से किसानों की जमीन पानी नर्मदा का पानी अब तक 500 हेक्टेयर से ज्यादा की कृषि जमीन को लील चुका है। पिछले साल नदी में आई बाढ़ के कारण बोरभाठा गांव के पास बड़े पैमाने पर कटान हुई थी। उसकेे बाद पूरा गांव नदी की धारा के किनारे आ गया है। कटान को लेकर गांव तक पानी पहुंचने की आशंका से ग्रामीण भयभीत हैं।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned