विधि-विधान से विराजे गणपति

गणेश महोत्सव धूमधाम से शुरू

Sunil Mishra

September, 1309:16 PM

Surat, Gujarat, India

रिद्धि-सिद्धि के दाता और प्रथम पूज्य गणेशजी का जन्मोत्सव गुरुवार को धूमधाम से मनाया गया। संघ प्रदेश दमण और दानह तथा दक्षिण गुजरात के वापी, वलसाड, डांग, वांसदा, नवसारी, बिलीमोरा सहित अन्य शहरों और कस्बों में पंडालों और घरों में विधि-विधान से गणपति प्रतिमाओं की स्थापना हुई। कई जगहों पर मिट्टी से बनी प्रतिमाओं को स्थापित किया गया। स्थापना से पूर्व लोग गणपति प्रतिमाओं को गाजे-बाजे के साथ लाए तथा पंडालों और घरों में विराजमान किया।

 

वापी. वापी समेत आसपास के सभी विस्तारों में गुरुवार को शुभमुहूर्त में विघ्नहर्ता के विराजमान होने के साथ ही गणेश महोत्सव धूमधाम से शुरू हो गया है। घरों से लेकर पंडालों में गणपति बप्पा मोरिया के जयकारों की गूंज रही। सुबह से ही मूॢत विक्रेताओं के यहां भीड़ लगी रही। श्रद्धालु नाचते हुए गाजे बाजे के साथ गणेशजी को पंडालों में लेकर पहुंचे और विधि विधान से विराजमान किया गया। इसके साथ ही श्रद्धालुओं का पूजा अर्चना के लिए पंडालो में पहुंचना शुरु हो गया था। वापी में रेलवे स्टेशन, गुंजन, सब्जी मंडी, भडक़मोरा समेत अन्य स्थानों पर गणेशजी की आकर्षक और बड़ी प्रतिमाएं लोगों के आकर्षण का केन्द्र हैं। पंडालों में भव्य सजावट और झांकी भी श्रद्धालुओं को आकर्षित कर रही है।
पूजा के साथ छप्पन भोग
गणेश महोत्सव का उत्साह पंडालों से लेकर घरों तक देखा जा रहा है। जहां गणेशजी की पूजा अर्चना के साथ छप्पन प्रकार का भोग भी चढ़ाए जा रहे हैं। इसी क्रम में नामधा -चंडोर में भंडारी युवक मंडल द्वारा मनाए जा रहे गणेश महोत्सव के पंडाल में गणपति महाराज को स्थापना के पहले दिन ही छप्पन भोग लगाया गया था।

 


डांग और वांसदा में गणपति महोत्सव का आगाज
वांसदा. डांग और वांसदा में गुरुवार से धूमधाम से गणेश महोत्सव की शुरुआत हुई है। डांग के वघई एवं आसपास के ग्रामीण विस्तारों में सुबह से गणेशजी की प्रतिमाओं को गाजे बाजे के साथ लाने का सिलसिला शुरू हो गया था। नाचते-गाते श्रद्धालु भगवान गणेश को पंडालों एवं घरों में लेकर आए। शुभमुहूर्त में गणेशजी की स्थापना कर डांग और वांसदा में श्रद्धालुओं ने पूजा अर्चना की। सार्वजनिक मंडलों द्वारा पंडालों की भव्य सजावट भी आकर्षित कर रही है। पूरे नगर में गणपति महोत्सव का उत्साह देखा गया।
वांसदा में भी शहर से लेकर गांव तक गणपति बप्पा की पूजा का दौर गुरुवार से शुरू हो गया है। गणेश के स्वागत में जगह-जगह शोभायात्रा निकाली गई और भक्त गाजे बाजे की धुन पर नाचते हुए पंडालों मे लेकर पहुंचे थे। नगर में सार्वजनिक पंडालों और घरों के अलावा लोगों ने दुकानों में भी गणपति स्थापना की है।

 

गणपति बप्पा मोरया...
सिलवासा. भाद्रपद चतुर्थी पर गुरुवार को शुभ मुहूर्त में सार्वजनिक पंडालों, सोसायटियों एवं घरों में गौरीपुत्र विराजमान हो गए। सार्वजनिक गणेश महोत्सव के पंडालों में आशीर्वाद देते पार्वतीनंदन, असुरों का संहार करते देवाधिदेव, सृष्टि कल्याण गणदेव, शुभ कार्यों के मंगलदेव को विभिन्न मुद्राओं में दिखाया गया है। पंडितों ने शुभ मुहूर्त सुबह 11.09 बजे से दोपहर 2.51 बजे तक बुद्धि, समृद्धि व सौभाग्य देव की पूजा करके स्थापना की। अधिकांश पंडालों में दोपहर दो बजे तक विधि विधान से विघ्नहर्ता की प्रतिष्ठा की गई। पूजा के दौरान श्रद्धालुओं ने गणपति बप्पा के जयकारे लगाए। पंडालों में पार्वती पुत्र के साथ मूषक की भी पूजा हुई।

 

गणेशोत्सव की धूम

दमण. पर्यटन-उद्योग की नगरी दमण में गजानंद गाजे-बाजे के साथ लाए गए तथा मंत्रोच्चार के बीच मंडपों में उनकी स्थापना की गई। शहर से लेकर गांव तक गणेशोत्सव की धूम मची है। घरों, फलियों, मोहल्लों में बप्पा की प्रतिमाएं स्थापित की गई हैं। शहर में जेटी का राजा, किंग ऑफ सी-फेस जेटी, सांई मंदिर, कथीरिया, मशाल चौक गणेशोत्सव सहित कई जगहों पर गणपति स्थापित किए गए।

Sunil Mishra
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned