नहीं पहुंची गांधीनगर की टीम

वांसदा मे आ रहे भूकंप के झटके सर्वे, डिजास्टर टीम ने तीन गांवों में की जांच

Vineet Sharma

November, 1609:51 PM

नवसारी/ वांसदा. नवसारी जिले के वांसदा तहसील में गत दो माह से लगातार आ रहे भूकंप के कारण से लोग सहमे हैं। एक सप्ताह से रोजाना भूंकप आने से स्थानीय प्रशासन जागा है और शनिवार को डिजास्टर विभाग की टीम ने तहसील के तीन गांवों में पहुंचकर जांच की। पहले गांधीनगर से टीम को भेजने की बात कही थी, लेकिन दिल्ली में बैठक होने के कारण डिजास्टर टीम को वांसदा भेजा गया। गांधीनगर की टीम अब अगले सप्ताह आएगी।

जानकारी के अनुसार बरसात थमने के बाद सितंबर के अंत से ही तहसील के गांवों में भूकंप आ रहा है। एक सप्ताह से रोजाना दो से तीन बार भूकंप आ रहा है। बुधवार, गुरुवार व शुक्रवार को वांसदा समेत चिखली व खेरगाम के सरहदी गांव में भी भूकंप का झटका महसूस किया गया। शुक्रवार दोपहर को 1.36 बजे 3.5 की तीव्रता का भूकंप आया था। जिससे वांसदा के उपसल गांव की स्कूल में बच्चे डर के मारे बाहर भाग आए थे।

भूकंप के झटकों को लेकर वांसदा तहसीलदार विशाल यादव ने सिस्मोलोजिकल विभाग व राज्य डिजास्टर विभाग को सूचित किया था। जिसके अंतर्गत नवसारी डिजास्टर का एक दल शाम वांसदा पहुंचा। टीम ने मामलतदार विशाल यादव के साथ लीमझर, वालझर और कावडेज गांव का दौरा किया। तीनों गांवों में सिस्मोलोजिकल विभाग द्वारा ऑफ लाइन सिस्मोग्राफ मशीनें रखी हुई हैं और उसकी भी जांच की।

साथ ही भूकंप के झटकों के कारण वांसदा के उपसल गांव में जिन घरों में नुकसान हुआ था उसे भी देखा। जहां उत्तम पटेल के घर का सर्वे कर सरकारी सहायता दिलाने का आश्वासन दिया गया। उल्लेखनीय है कि वांसदा में जूज व केलिया दो डेम स्थित हैं। वांसदा में इस वर्ष औसतन 110 इंच बरसात हुई है। भूकंप के आने के मुख्य कारणों में एक भारी बरसात का भी अनुमान सिस्मोलोजिकल विशेषज्ञ लगा रहे हैं। वहीं डिजास्टर विभाग से दो कर्मचारियों ने गांव पहुंचकर भूकंप की ली जानकारी

वांसदा तहसील में गत दस दिनों से भूकंप के झटके आ रहे हंै। लेकिन आज तक गांधीनगर से सर्वे के लिए टीम न आने से लोगों में रोष व्याप्त है। शुक्रवार को सबसे तीव्रता वाला भूकंप का झटका लगा। जिसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.5 बताई गई। उसका केन्द्र नानी भामटी गांव था। वांसदा मामलतदार विशाल यादव ने लोगों को आश्वासन दिया था कि शनिवार को गांधीनगर से टीम इसकी जांच के लिए आएगी।

दिल्ली में मीटिंग होने के कारण भूकंप विभाग की टीम तो नहीं आई, लेकिन नवसारी डिजास्टर से अमित देसाई और कांति कापडिया वांसदा पहुंचे। उन्होंने लीमझर, वालझर और कावडेज गांव में मामलतदार के साथ जाकर लोगों से भेंट की। लेकिन योग्य जांच करने और लोगों का डर निकालने में टीम असफल रही। लोगों में प्रशासन के इस रवैये से बहुत नाराजगी देखी गई।

विनीत शर्मा
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned